12वीं के बाद वकील कैसे बने | How to become a lawyer after 12th in hindi

Photo of author

By Admin

5/5 - (1 vote)

बारहवीं की परीक्षाएं खत्म हो गई हैं और अब आपके सामने करियर का अहम फैसला है! क्या आप कानून के क्षेत्र में अपना भविष्य बनाना चाहते हैं, जहां तर्क, बहस और न्याय का बोलबाला हो? वकालत का पेशा सम्मानजनक होने के साथ-साथ चुनौतीपूर्ण और आकर्षक भी है. अगर आप सोच रहे हैं कि “12वीं के बाद वकील कैसे बनें” तो ये लेख आपके लिए ही है. इस लेख में हम आपको वकालत के क्षेत्र में आगे बढ़ने के लिए सही दिशा दिखाएंगे, जिसमें जरूरी पढ़ाई, कोर्स और परीक्षाओं की जानकारी शामिल है.

Table of Contents

एडवोकेट क्या होता है – Who are Lawyers in Hindi

 एडवोकेट क्या होता है

Who are Lawyers in Hindi

वकील वे पेशेवर होते हैं जो कानून के क्षेत्र में विशेषज्ञ होते हैं और वे अपने मुवक्किलों की ओर से अदालतों में उनका प्रतिनिधित्व करते हैं. वे कानूनी मामलों की पैरवी करते हैं, कानूनी सलाह देते हैं और कानूनी दस्तावेज तैयार करते हैं. वकील विभिन्न क्षेत्रों में काम करते हैं, जैसे कि आपराधिक कानून, नागरिक कानून, संवैधानिक कानून, कर कानून, और परिवार कानून.

एक वकील का मुख्य कार्य अपने मुवक्किल के हितों की रक्षा करना होता है और यह सुनिश्चित करना होता है कि उन्हें न्याय मिले. इसके लिए, वकीलों को कानून की गहन समझ होना आवश्यक है, साथ ही साथ मजबूत वाद-विवाद और तर्क कौशल भी होना चाहिए. वकीलों को नैतिक और पेशेवर रूप से भी ईमानदार होना चाहिए, और हमेशा अपने मुवक्किलों के साथ गोपनीयता बनाए रखनी चाहिए.

अगर आप कानून में रुचि रखते हैं और लोगों की मदद करना चाहते हैं, तो वकालत आपके लिए एक बेहतरीन करियर विकल्प हो सकता है. 12वीं के बाद, आप विभिन्न कानूनी कोर्स करके वकील बन सकते हैं, जिनमें LLB (बैचलर ऑफ लॉ) और LLM (मास्टर ऑफ लॉ) शामिल हैं.

गूगल में जॉब कैसे पाए 2024 | How to get a job in Google in hindi

वकील के विभिन्न प्रकार – Different Types of Lawyers in Hindi

वकील विभिन्न क्षेत्रों में विशेषज्ञता रखते हैं और वे विभिन्न प्रकार के कानूनी मामलों को संभालते हैं. 12वीं के बाद वकील बनने के इच्छुक छात्रों को अपनी रुचि और कौशल के आधार पर वकालत के क्षेत्र का चुनाव करना चाहिए.

वकील के कुछ प्रमुख प्रकारों में शामिल हैं

  • क्रिमिनल लॉ वकील– ये वकील आपराधिक मामलों में आरोपियों या पीड़ितों का प्रतिनिधित्व करते हैं. वे जमानत याचिकाएं दाखिल करते हैं, मुकदमे की पैरवी करते हैं और अपीलों पर बहस करते हैं.
  • सिविल लॉ वकील– ये वकील अनुबंध विवाद, संपत्ति विवाद, तलाक के मामले, और अन्य नागरिक मामलों को संभालते हैं. वे कानूनी दस्तावेज तैयार करते हैं, वार्ता करते हैं और अदालत में अपने मुवक्किलों का प्रतिनिधित्व करते हैं.
  • कॉर्पोरेट वकील– ये वकील कंपनियों को कानूनी सलाह देते हैं और उनके लिए विभिन्न प्रकार के कानूनी कार्य करते हैं, जैसे कि अनुबंधों का मसौदा तैयार करना, लेनदेन की समीक्षा करना और बौद्धिक संपदा मामलों को संभालना.
  • कर वकील– ये वकील व्यक्तियों और व्यवसायों को कर कानूनों का पालन करने में मदद करते हैं. वे कर रिटर्न तैयार करते हैं, कर विवादों को हल करते हैं और कर योजना प्रदान करते हैं.
  • पर्यावरण वकील– ये वकील पर्यावरण से संबंधित कानूनी मामलों को संभालते हैं, जैसे कि प्रदूषण नियंत्रण, प्राकृतिक संसाधनों का प्रबंधन और जलवायु परिवर्तन.

सबसे सस्ता मेडिकल कॉलेज 2024 |cheapest medical colleges in india in hindi

वकील बनने के लिए जरूरी कौशल – Skills required to become a lawyer in Hindi

वकील बनने के लिए जरूरी कौशल

Skills required to become a lawyer in Hindi

12वीं के बाद वकील बनने के लिए, आपके पास कुछ आवश्यक कौशल होने चाहिए जो आपको एक सफल वकील बनने में मदद करेंगे.

इनमें से कुछ महत्वपूर्ण कौशल निम्नलिखित हैं

  • मजबूत संवाद कौशल– वकीलों को अपने मुवक्किलों, जजों, वकीलों और अन्य लोगों के साथ प्रभावी ढंग से संवाद करने में सक्षम होना चाहिए. उन्हें अपनी बात को स्पष्ट और संक्षिप्त रूप से समझाने में सक्षम होना चाहिए, और दूसरों को ध्यान से सुनने में सक्षम होना चाहिए.
  • शोध और विश्लेषण कौशल– वकीलों को कानूनी मामलों का गहन शोध करने और जटिल कानूनी जानकारी का विश्लेषण करने में सक्षम होना चाहिए. उन्हें तथ्यों को इकट्ठा करने, कानूनी सिद्धांतों को लागू करने और मजबूत तर्क विकसित करने में सक्षम होना चाहिए.
  • तर्क और वाद-विवाद कौशल– वकीलों को अदालत में अपने मुवक्किलों का प्रभावी ढंग से प्रतिनिधित्व करने के लिए मजबूत तर्क और वाद-विवाद कौशल होना चाहिए. उन्हें कानूनी मुद्दों की पहचान करने, कानूनी तर्क देने और जिरह करने में सक्षम होना चाहिए.
  • समस्या को सुलझाने की क्षमता- वकीलों को रचनात्मक और प्रभावी तरीके से कानूनी समस्याओं को हल करने में सक्षम होना चाहिए. उन्हें विभिन्न विकल्पों का मूल्यांकन करने, समझौतों पर बातचीत करने और अपने मुवक्किलों के लिए सर्वोत्तम परिणाम प्राप्त करने में सक्षम होना चाहिए.
  • नैतिकता और ईमानदारी– वकीलों को उच्च नैतिक मानकों का पालन करना चाहिए और हमेशा अपने मुवक्किलों के सर्वोत्तम हित में कार्य करना चाहिए. उन्हें ईमानदार और सत्यवादी होना चाहिए, और कानून का सम्मान करना चाहिए.

दिल्ली में सर्वश्रेष्ठ मेडिकल कॉलेज 2024 | Best Medical Colleges in Delhi in hindi

वकील बनने के लिए टॉप कोर्स – Top courses to become a lawyer in Hindi

अब जबकि आप जानते हैं कि वकील क्या करते हैं और उनके लिए जरूरी कौशल क्या हैं, यह जानना भी जरूरी है कि 12वीं के बाद वकील बनने के लिए कौन से कोर्स सबसे उपयुक्त हैं.

वकालत के क्षेत्र में सबसे लोकप्रिय कोर्स हैं

  • एलएलबी (बैचलर ऑफ लॉ)– यह एक तीन या पांच साल का स्नातक डिग्री प्रोग्राम है जो कानून के विभिन्न पहलुओं की पढ़ाई प्रदान करता है. LLB पूरा करने के बाद, आप बार परीक्षा पास करके एक लाइसेंस प्राप्त वकील बन सकते हैं.
  • बीएएलएलबी (बैचलर ऑफ आर्ट्स एंड बैचलर ऑफ लेजिसलेटिव लॉ)- यह एक एकीकृत डिग्री प्रोग्राम है जो कला (जैसे इतिहास, राजनीति विज्ञान या अर्थशास्त्र) और कानून दोनों की शिक्षा प्रदान करता है. यह कोर्स कानून के साथ-साथ सामाजिक और राजनीतिक संदर्भ को समझने में आपकी मदद करता है.
  • एलएलएम (मास्टर ऑफ लॉ)– यह एक स्नातकोत्तर डिग्री प्रोग्राम है जो आपको कानून के किसी विशिष्ट क्षेत्र में विशेषज्ञता हासिल करने का मौका देता है. आप किसी खास क्षेत्र में रुचि रखते हैं, जैसे कि कॉर्पोरेट कानून, आपराधिक कानून या कर कानून, तो LLM आपके लिए उपयुक्त विकल्प हो सकता है.

एमबीबीएस प्राइवेट कॉलेज फीस 2024 | MBBS Private College Fees in hindi

वकील बनने के लिए बैचलर डिग्री कोर्स – Bachelor degree course to become a lawyer

वकील बनने के लिए बैचलर डिग्री कोर्स

Bachelor degree course to become a lawyer

12वीं के बाद वकील बनने के लिए, आप विभिन्न प्रकार के बैचलर डिग्री कोर्स कर सकते हैं. इनमें से कुछ लोकप्रिय विकल्पों में शामिल हैं

  • LLB (बैचलर ऑफ लॉ)– यह सबसे आम और बुनियादी कानून की डिग्री है. इसमें भारतीय कानूनी प्रणाली, संविधान, अनुबंध कानून, आपराधिक कानून, और सिविल प्रक्रिया संहिता जैसे विषयों का अध्ययन शामिल है. LLB कोर्स 3 साल या 5 साल का हो सकता है, जो आपके द्वारा चुने गए विश्वविद्यालय और प्रोग्राम पर निर्भर करता है.
  • BA LLB (बैचलर ऑफ आर्ट्स एंड बैचलर ऑफ लॉ)- यह एक एकीकृत डिग्री प्रोग्राम है जो आपको कला (जैसे इतिहास, राजनीति विज्ञान, या अर्थशास्त्र) और कानून दोनों की शिक्षा प्रदान करता है. BA LLB कोर्स 5 साल का होता है.
  • BBA LLB (बैचलर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन एंड बैचलर ऑफ लॉ)- यह एक और एकीकृत डिग्री प्रोग्राम है जो आपको व्यवसाय प्रबंधन और कानून दोनों की शिक्षा प्रदान करता है. BBA LLB कोर्स 5 साल का होता है.
  • B.Sc LLB (बैचलर ऑफ साइंस एंड बैचलर ऑफ लॉ)– यह एकीकृत डिग्री प्रोग्राम आपको विज्ञान (जैसे भौतिकी, रसायन विज्ञान, या गणित) और कानून दोनों की शिक्षा प्रदान करता है. B.Sc LLB कोर्स 5 साल का होता है.

वकील बनने के लिए टॉप भारतीय यूनिवर्सिटीज़

12वीं के बाद वकील बनने के लिए भारत में कई बेहतरीन विश्वविद्यालय हैं. इनमें से कुछ टॉप यूनिवर्सिटीज़ निम्नलिखित हैं

2024] माइक्रोसॉफ्ट में नौकरी कैसे पाएं | how to get job in microsoft in Hindi

वकील बनने के लिए योग्यता – Qualifications required to become a lawyer

वकील बनने के लिए योग्यता

Qualifications required to become a lawyer

12वीं के बाद वकील बनने के लिए सिर्फ कानून की किताबें रटना काफी नहीं है. इसमें सफलता पाने के लिए आपके पास कुछ जरूरी योग्यताएं होनी चाहिए.

  • शैक्षणिक योग्यता– सबसे पहले, आपको 12वीं कक्षा किसी भी विषय से उत्तीर्ण होना आवश्यक है. इसके बाद, आपको कानून की डिग्री हासिल करनी होगी. आप तीन साल वाले LLB (बैचलर ऑफ लॉ) या पांच साल वाले एकीकृत कोर्स जैसे BA LLB या BBA LLB चुन सकते हैं. इन कोर्सेज में प्रवेश के लिए आपको लॉ कॉलेज प्रवेश परीक्षा (CLAT) https://consortiumofnlus.ac.in/ में अच्छा स्कोर करना होगा.
  • कौशल विकास– वकील बनने के लिए सिर्फ डिग्री ही काफी नहीं है. आपको कुछ खास कौशलों का विकास भी करना होगा. इनमें शामिल हैं –
    • विश्लेषणात्मक सोच– जटिल कानूनी मुद्दों को समझने और उनका समाधान निकालने के लिए मजबूत विश्लेषणात्मक कौशल आवश्यक है.
    • तार्किक तर्क- अदालत में अपने पक्ष को मजबूती से रखने के लिए प्रभावी ढंग से तर्क देना जरूरी है.
    • संचार कौशल- वकील को जटिल कानूनी जानकारी को स्पष्ट और सहज रूप से समझाने में सक्षम होना चाहिए, दोनों मौखिक और लिखित रूप में.
    • शोध कौशल– कानूनी मामलों से संबंधित जानकारी को प्रभावी ढंग से खोजना और उसका मूल्यांकन करना भी एक महत्वपूर्ण कौशल है.
  • व्यक्तिगत गुण– वकील बनने के लिए ईमानदारी, दृढ़ निश्चय, धैर्य और समय प्रबंधन जैसे व्यक्तिगत गुणों का होना भी आवश्यक है.

अमेज़न वर्क फ्रॉम होम जॉब्स 2024 | amazon work from home jobs in Hindi

भारतीय विश्वविद्यालयों में वकील कार्यक्रमों के लिए आवेदन प्रक्रिया

12वीं के बाद वकील बनने के लिए, आपको भारत में किसी मान्यता प्राप्त लॉ स्कूल या यूनिवर्सिटी में प्रवेश लेना होगा.

आवेदन प्रक्रिया

  1. लॉ कॉलेज प्रवेश परीक्षा (CLAT)– भारत में अधिकांश लॉ स्कूलों और यूनिवर्सिटी में प्रवेश के लिए CLAT https://consortiumofnlus.ac.in/ आवश्यक है. यह एक राष्ट्रीय स्तर की परीक्षा है जो हर साल आयोजित की जाती है.
  2. अन्य विश्वविद्यालयों की प्रवेश परीक्षा– कुछ विश्वविद्यालय अपनी प्रवेश परीक्षा भी आयोजित करते हैं.
  3. आवेदन पत्र भरें- CLAT या विश्वविद्यालय की प्रवेश परीक्षा में उत्तीर्ण होने के बाद, आपको संबंधित लॉ स्कूल या यूनिवर्सिटी के आवेदन पत्र को भरना होगा.
  4. आवश्यक दस्तावेज जमा करें- आवेदन पत्र के साथ, आपको अपनी 12वीं कक्षा की मार्कशीट, CLAT स्कोर कार्ड, आधार कार्ड, और अन्य आवश्यक दस्तावेज जमा करने होंगे.
  5. मेरिट लिस्ट– सभी आवेदकों की मेरिट लिस्ट उनके CLAT स्कोर या विश्वविद्यालय की प्रवेश परीक्षा के अंकों के आधार पर तैयार की जाती है.
  6. कॉलेज का चुनाव– मेरिट लिस्ट के आधार पर, आपको अपनी पसंद के लॉ स्कूल या यूनिवर्सिटी का चुनाव करना होगा.
  7. फीस भुगतान और प्रवेश- आपके द्वारा चुने गए लॉ स्कूल या यूनिवर्सिटी में प्रवेश शुल्क का भुगतान करने के बाद आपको प्रवेश दिया जाएगा.

यूके में सेल्स मार्केटिंग जॉब 2024 | Best sales marketing jobs in uk in Hindi

वकील बनने के लिए आवश्यक दस्तावेज – Documents required to become a lawyer in Hindi

वकील बनने के लिए आवश्यक दस्तावेज

Documents required to become a lawyer in Hindi

12वीं के बाद वकील बनने के लिए, आपको भारत में किसी मान्यता प्राप्त लॉ स्कूल या यूनिवर्सिटी में प्रवेश लेना होगा.

आवश्यक दस्तावेज

  • 12वीं कक्षा की मार्कशीट– यह दस्तावेज आपकी शैक्षणिक योग्यता का प्रमाण है.
  • CLAT स्कोर कार्ड– यदि आपने CLAT परीक्षा दी है, तो आपको अपना स्कोर कार्ड जमा करना होगा.
  • विश्वविद्यालय की प्रवेश परीक्षा के अंक पत्र- यदि आपने विश्वविद्यालय की अपनी प्रवेश परीक्षा दी है, तो आपको अपने अंकों का पत्र जमा करना होगा.
  • आधार कार्ड– यह आपकी पहचान का प्रमाण है.
  • जन्म प्रमाण पत्र– यह आपके जन्म की तारीख का प्रमाण है.
  • जाति प्रमाण पत्र– यदि आप आरक्षित श्रेणी के छात्र हैं, तो आपको अपना जाति प्रमाण पत्र जमा करना होगा.
  • पासपोर्ट साइज फोटो– आपको आवेदन पत्र के साथ कुछ पासपोर्ट साइज फोटो जमा करने होंगे.
  • निवास प्रमाण पत्र– यदि आप उस राज्य के बाहर के छात्र हैं जहां आप प्रवेश लेना चाहते हैं, तो आपको अपना निवास प्रमाण पत्र जमा करना होगा.
  • चिकित्सा प्रमाण पत्र– कुछ लॉ स्कूलों को चिकित्सा प्रमाण पत्र जमा करने की आवश्यकता हो सकती है.

सेल्स में सफल करियर गाइड 2024 | Successful Career in Sales in Hindi

वकील बनने के लिए प्रवेश परीक्षाएं – Entrance exams to become a lawyer in Hindi

12वीं के बाद वकील बनने के लिए, आपको भारत में किसी मान्यता प्राप्त लॉ स्कूल या यूनिवर्सिटी में प्रवेश लेना होगा.

प्रवेश के लिए मुख्य प्रवेश परीक्षाएं

  • लॉ कॉलेज प्रवेश परीक्षा (CLAT)– यह भारत में लॉ स्कूलों में प्रवेश के लिए सबसे महत्वपूर्ण और राष्ट्रीय स्तर की प्रवेश परीक्षा है. यह परीक्षा हर साल आयोजित की जाती है और इसमें कानूनी ज्ञान, तर्क क्षमता, भाषा कौशल, और सामान्य ज्ञान जैसे विषय शामिल होते हैं.
  • विश्वविद्यालय प्रवेश परीक्षाएं– कुछ विश्वविद्यालय अपनी प्रवेश परीक्षाएं भी आयोजित करते हैं. इन परीक्षाओं का स्वरूप और कठिनाई स्तर विश्वविद्यालय के अनुसार भिन्न हो सकता है.

CLAT के लिए पात्रता

  • 12वीं कक्षा किसी भी विषय से कम से कम 50% अंक (कई विश्वविद्यालयों में 60% या उससे अधिक अंक required होते हैं)
  • भारतीय नागरिक होना

CLAT परीक्षा पैटर्न

  • ऑफलाइन मोड– CLAT परीक्षा ऑफलाइन मोड में आयोजित की जाती है.
  • परीक्षा की अवधि- 2 घंटे
  • प्रश्न प्रकार– बहुविकल्पीय प्रश्न (MCQs)
  • विषय
    • कानूनी ज्ञान और तर्क क्षमता (50%)
    • भाषा कौशल (25%)
    • सामान्य ज्ञान (25%)

विश्वविद्यालय प्रवेश परीक्षाओं के लिए पात्रता

  • 12वीं कक्षा किसी भी विषय से कम से कम 50% अंक (कई विश्वविद्यालयों में 60% या उससे अधिक अंक required होते हैं)
  • संबंधित विश्वविद्यालय द्वारा निर्धारित अन्य पात्रता मानदंड

विश्वविद्यालय प्रवेश परीक्षाओं का पैटर्न

  • विश्वविद्यालय के अनुसार भिन्न होता है
  • ऑनलाइन या ऑफलाइन मोड में आयोजित की जा सकती है
  • परीक्षा की अवधि, प्रश्न प्रकार, और विषय विश्वविद्यालय के अनुसार भिन्न होते हैं

12वीं के बाद पुलिस ऑफिसर कैसे बने | How to become a police officer after 12th in Hindi

वकील बनने के लिए भारतीय प्रवेश परीक्षाएं – Indian entrance exams to become a lawyer

वकील बनने के लिए भारतीय प्रवेश परीक्षाएं

Indian entrance exams to become a lawyer

12वीं के बाद वकील बनने के लिए, आपको भारत में किसी मान्यता प्राप्त लॉ स्कूल या यूनिवर्सिटी में प्रवेश लेना होगा.

प्रवेश के लिए मुख्य प्रवेश परीक्षाएं

1. लॉ कॉलेज प्रवेश परीक्षा (CLAT)

  • यह भारत में लॉ स्कूलों में प्रवेश के लिए सबसे महत्वपूर्ण और राष्ट्रीय स्तर की प्रवेश परीक्षा है.
  • यह परीक्षा हर साल आयोजित की जाती है और इसमें कानूनी ज्ञान, तर्क क्षमता, भाषा कौशल, और सामान्य ज्ञान जैसे विषय शामिल होते हैं.
  • पात्रता- 12वीं कक्षा किसी भी विषय से कम से कम 50% अंक (कई विश्वविद्यालयों में 60% या उससे अधिक अंक required होते हैं), भारतीय नागरिक होना
  • परीक्षा पैटर्न- ऑफलाइन मोड, 2 घंटे की अवधि, बहुविकल्पीय प्रश्न (MCQs), कानूनी ज्ञान (50%), भाषा कौशल (25%), सामान्य ज्ञान (25%)

2. विश्वविद्यालय प्रवेश परीक्षाएं-

  • कुछ विश्वविद्यालय अपनी प्रवेश परीक्षाएं भी आयोजित करते हैं.
  • इन परीक्षाओं का स्वरूप और कठिनाई स्तर विश्वविद्यालय के अनुसार भिन्न हो सकता है.
  • पात्रता– 12वीं कक्षा किसी भी विषय से कम से कम 50% अंक (कई विश्वविद्यालयों में 60% या उससे अधिक अंक required होते हैं), संबंधित विश्वविद्यालय द्वारा निर्धारित अन्य पात्रता मानदंड
  • परीक्षा पैटर्न- विश्वविद्यालय के अनुसार भिन्न, ऑनलाइन या ऑफलाइन मोड में आयोजित की जा सकती है, परीक्षा की अवधि, प्रश्न प्रकार, और विषय विश्वविद्यालय के अनुसार भिन्न होते हैं

अन्य प्रवेश परीक्षाएं

  • AILET– अखिल भारतीय कानून प्रवेश परीक्षा (AILET) नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, दिल्ली और कुछ अन्य विश्वविद्यालयों में प्रवेश के लिए आयोजित की जाती है.
  • LSAT– लॉ स्कूल प्रवेश परीक्षा (LSAT) भारत में कुछ निजी लॉ स्कूलों में प्रवेश के लिए आयोजित की जाती है.

12 वीं के बाद मनोविज्ञान में करियर | Career in Psychology after 12th in hindi

वकील बनने के लिए भाषा आवश्यकताएं – Language Requirements to Become a Lawyer

12वीं के बाद वकील बनने के लिए, आपको अंग्रेजी और हिंदी भाषा में अच्छी पकड़ होना आवश्यक है.

कारण

  • कानूनी शिक्षा– भारत में अधिकांश कानूनी शिक्षा अंग्रेजी भाषा में प्रदान की जाती है. कानूनी किताबें, केस स्टडीज, और कानूनी दस्तावेज अंग्रेजी में होते हैं.
  • अदालतों में कामकाज- भारतीय अदालतों में बहस और फैसले अंग्रेजी और हिंदी दोनों भाषाओं में किए जाते हैं.
  • कानूनी पेशेवरों के साथ संवाद- वकीलों को जजों, वकीलों, और ग्राहकों के साथ प्रभावी ढंग से संवाद करने में सक्षम होना चाहिए.

अन्य भाषाएं

  • क्षेत्रीय भाषाएं– यदि आप किसी विशेष क्षेत्र में वकालत करना चाहते हैं, तो आपको उस क्षेत्र की स्थानीय भाषा भी सीखनी चाहिए.
  • विदेशी भाषाएं– यदि आप अंतरराष्ट्रीय कानून के क्षेत्र में काम करना चाहते हैं, तो आपको अंग्रेजी के अलावा अन्य भाषाओं जैसे कि फ्रेंच, जर्मन, या स्पेनिश भी सीखनी चाहिए.

डेंटिस्ट कैसे बने | dental diploma courses after 12th in Hindi

वकील बनने के लिए आवश्यक पुस्तकें – Essential books to become a lawyer

12वीं के बाद वकील बनने के लिए, आपको कानून की विभिन्न शाखाओं और विषयों के बारे में गहन ज्ञान प्राप्त करना होगा.

यहां कुछ आवश्यक पुस्तकें दी गई हैं

  • भारत का संविधान– डॉ. बी. आर. अंबेडकर (यह भारत के कानूनों का आधार है)
  • कानून के सामान्य सिद्धांत- डॉ. डी. डी. बसु (कानून के बुनियादी सिद्धांतों को समझने के लिए)
  • भारतीय अनुबंध अधिनियम, 1872- (अनुबंधों से संबंधित कानूनों को समझने के लिए)
  • भारतीय दंड संहिता, 1860– (अपराधों और दंड से संबंधित कानूनों को समझने के लिए)
  • सिविल प्रक्रिया संहिता, 1908- (सिविल मामलों में कानूनी प्रक्रिया को समझने के लिए)
  • आपराधिक प्रक्रिया संहिता, 1973- (आपराधिक मामलों में कानूनी प्रक्रिया को समझने के लिए)
  • भारतीय कानूनी इतिहास– डॉ. एन. एन. सिन्हा (भारतीय कानून के विकास को समझने के लिए)
  • भारतीय न्यायिक प्रणाली– डॉ. पी. एन. जैन (भारतीय न्यायिक प्रणाली की कार्यप्रणाली को समझने के लिए)
  • वकालत कला– एम. एल. गुप्ता (वकीलों के लिए आवश्यक कौशल और नैतिकता)

12वीं के बाद पायलट कैसे बने | How to become a pilot after 12th in hindi

वकील की सैलरी – Lawyer’s salary in Hindi

12वीं के बाद वकील बनने के बाद भारत में आपकी सैलरी पैकेज कई कारकों पर निर्भर करती है, जिनमें शामिल हैं

  • अनुभव– अनुभवी वकीलों को आमतौर पर शुरुआती वकीलों की तुलना में अधिक वेतन मिलता है.
  • कौशल– विशेषज्ञता वाले क्षेत्र, जैसे कि कॉर्पोरेट कानून या आपराधिक कानून, में वकीलों को अधिक वेतन मिल सकता है.
  • स्थान– बड़े शहरों में वकीलों को आमतौर पर छोटे शहरों या कस्बों में वकीलों की तुलना में अधिक वेतन मिलता है.
  • नियोक्ता- सरकारी वकीलों या सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यमों में काम करने वाले वकीलों को आमतौर पर निजी क्षेत्र के वकीलों की तुलना में कम वेतन मिलता है.
  • फर्म का आकार– बड़ी कानूनी फर्मों में काम करने वाले वकीलों को आमतौर पर छोटी कानूनी फर्मों या एकल वकील प्रैक्टिस में काम करने वाले वकीलों की तुलना में अधिक वेतन मिलता है.

भारत में वकीलों का औसत वेतन

  • शुरुआती वेतन– 25,000 रुपये से 50,000 रुपये प्रति माह
  • 3-5 साल का अनुभव- 50,000 रुपये से 1 लाख रुपये प्रति माह
  • 5-10 साल का अनुभव- 1 लाख रुपये से 2 लाख रुपये प्रति माह
  • 10+ साल का अनुभव– 2 लाख रुपये से 5 लाख रुपये प्रति माह या उससे अधिक

निष्कर्ष – Conclusion

क्योंकि 12वीं के बाद वकील बनने का सफर लंबा और चुनौतीपूर्ण जरूर है, लेकिन यह निश्चित रूप से सार्थक और पुरस्कृत भी है. कानून का क्षेत्र न्याय दिलाने और समाज में सकारात्मक बदलाव लाने का एक शक्तिशाली माध्यम प्रदान करता है. इस यात्रा में सफल होने के लिए दृढ़ संकल्प, कड़ी मेहनत, और कानून के प्रति जुनून की आवश्यकता होती है. उम्मीद है कि इस लेख में दी गई जानकारी ने आपको 12वीं के बाद वकील बनने की प्रक्रिया को समझने में मदद की है. यदि आप कानून के क्षेत्र में अपना करियर बनाने के लिए उत्सुक हैं, तो तो सही मार्गदर्शन और कड़ी मेहनत के साथ, आप अपने सपने को साकार कर सकते हैं.

12वीं के बाद फैशन डिजाइनिंग कोर्स | Fashion designing course after 12th in hindi

12वीं के बाद वकील कैसे बनें के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले सवाल (FAQ)

Q. वकील बनने के लिए कितनी उम्र होनी चाहिए?

Ans. भारत में, वकील बनने के लिए कानूनी रूप से कोई न्यूनतम या अधिकतम आयु सीमा नहीं है

Q. वकील क्या काम करता है?

Ans. वकील कानूनी पेशेवर होते हैं जो विभिन्न प्रकार के कानूनी मामलों में व्यक्तियों और संगठनों का प्रतिनिधित्व करते हैं. वे कानूनी सलाह प्रदान करते हैं, अनुबंध तैयार करते हैं, अदालत में मुकदमों की पैरवी करते हैं, और कानूनी दस्तावेजों को तैयार करते हैं.

Q. वकील बनने के लिए कौन सी प्रवेश परीक्षाएं देनी होंगी?

Ans. 12वीं के बाद वकील बनने के लिए, आपको मुख्य रूप से दो प्रकार की प्रवेश परीक्षाएं देनी होंगी
लॉ कॉलेज प्रवेश परीक्षा (CLAT) यह भारत में लॉ स्कूलों में प्रवेश के लिए सबसे महत्वपूर्ण और राष्ट्रीय स्तर की प्रवेश परीक्षा है.
विश्वविद्यालय प्रवेश परीक्षाएं- कुछ विश्वविद्यालय अपनी प्रवेश परीक्षाएं भी आयोजित करते हैं.

Q. वकील बनने के लिए सबसे अच्छी किताबें कौन सी हैं?

Ans. वकील बनने के लिए कई महत्वपूर्ण किताबें हैं, जिनमें शामिल हैं
भारत का संविधान डॉ. बी. आर. अंबेडकर
कानून के सामान्य सिद्धांत डॉ. डी. डी. बसु
भारतीय अनुबंध अधिनियम, 1872
भारतीय दंड संहिता, 1860
सिविल प्रक्रिया संहिता, 1908
आपराधिक प्रक्रिया संहिता, 1973

12वीं के बाद कलेक्टर कैसे बने | How to become a collector after 12th in hindi

Leave a Comment