12 वीं के बाद मनोविज्ञान में करियर | Career in Psychology after 12th in hindi

Photo of author

By Admin

5/5 - (1 vote)

मनोविज्ञान का अर्थ क्या आप मानसिक स्वास्थ्य और मानव व्यवहार की जटिलताओं से मोहित हैं? क्या आप लोगों की मदद करने और उनके जीवन में सकारात्मक बदलाव लाने के लिए उत्सुक हैं? यदि हाँ, तो मनोविज्ञान आपके लिए एक आदर्श करियर विकल्प हो सकता है। 12वीं के बाद, आप मनोविज्ञान में विभिन्न स्नातक और स्नातकोत्तर डिग्री कार्यक्रमों का विकल्प चुन सकते हैं जो आपको इस रोमांचक और चुनौतीपूर्ण क्षेत्र में प्रवेश करने के लिए आवश्यक ज्ञान और कौशल प्रदान करेंगे।यह लेख उन छात्रों के लिए मार्गदर्शक के रूप में कार्य करेगा जो 12 वीं के बाद मनोविज्ञान में करियर बनाने की इच्छा रखते हैं। हम मनोविज्ञान में विभिन्न शैक्षणिक कार्यक्रमों, शीर्ष कैरियर अवसरों, आवश्यक कौशल और इस क्षेत्र में सफलता के लिए रणनीति पर चर्चा करेंगे।

Table of Contents

मनोविज्ञान क्या है – highest paying career in psychology in hindi

मनोविज्ञान क्या है - 12 वीं के बाद मनोविज्ञान

यह मनोवैज्ञानिक वे पेशेवर होते हैं जो मानव मन और व्यवहार का अध्ययन करते हैं। वे लोगों को उनके विचारों, भावनाओं और व्यवहारों को समझने में मदद करते हैं, और उन्हें मानसिक स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से निपटने और अपने जीवन में सकारात्मक बदलाव लाने के लिए मार्गदर्शन प्रदान करते हैं।

विभिन्न प्रकार की सेटिंग्स में काम करते हैं, जैसे कि क्लिनिक, अस्पताल, स्कूल, कार्यालय, जेल, और अनुसंधान संस्थान। वे व्यक्तियों, जोड़ों, परिवारों और समूहों के साथ काम कर सकते हैं।

विभिन्न तरीकों का उपयोग करते हैं, जैसे कि चिकित्सा, परामर्श, परीक्षण, और अनुसंधान। वे लोगों को उनकी समस्याओं की पहचान करने, उनके मूल कारणों को समझने और उनसे निपटने के लिए प्रभावी रणनीति विकसित करने में मदद करते हैं।

यह मनोवैज्ञानिक बनने के लिए, आपको मनोविज्ञान में स्नातक या स्नातकोत्तर डिग्री प्राप्त करनी होगी। इसके बाद, आपको लाइसेंस प्राप्त करने के लिए आवश्यक राज्य-विशिष्ट आवश्यकताओं को पूरा करना होगा।

12वीं के बाद मनोविज्ञान , आप मनोविज्ञान में स्नातक की डिग्री प्राप्त करने के लिए मनोविज्ञान में स्नातक कार्यक्रम में प्रवेश कर सकते हैं। स्नातक कार्यक्रम आपको मनोविज्ञान के बुनियादी सिद्धांतों और विभिन्न उप-विषयों से परिचित कराएगा।

मनोविज्ञान में करियर उन लोगों के लिए एक पुरस्कृत और चुनौतीपूर्ण विकल्प है जो मानसिक स्वास्थ्य और मानव व्यवहार में रुचि रखते हैं। यदि आप दूसरों की मदद करने और उनके जीवन में सकारात्मक बदलाव लाने के लिए प्रतिबद्ध हैं, तो मनोविज्ञान आपके लिए सही करियर विकल्प हो सकता है।

टोमेटो सॉस बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें | How to start tomato sauce making business in Hindi

मनोविज्ञान का अर्थ – Different types of Psychology in Hindi

मनोविज्ञान का अर्थ

यह मनोविज्ञान एक विस्तृत और बहुआयामी क्षेत्र है जिसमें विभिन्न प्रकार के उप-विषय शामिल हैं। 12वीं के बाद मनोविज्ञान , आप अपनी रुचि और कौशल के आधार पर मनोविज्ञान के विभिन्न क्षेत्रों में से किसी एक में करियर बनाने का विकल्प चुन सकते हैं।

मनोविज्ञान का अर्थ एवं परिभाषा

  • नैदानिक मनोविज्ञान– यह मनोविज्ञान का सबसे आम प्रकार है, जिसमें मानसिक स्वास्थ्य विकारों का मूल्यांकन, निदान और उपचार शामिल है। नैदानिक मनोवैज्ञानिक विभिन्न प्रकार की चिकित्सा प्रदान करते हैं, जैसे कि संज्ञानात्मक-व्यवहार थेरेपी, व्यवहार थेरेपी, और मनोगत्यात्मक थेरेपी
  • शिक्षा मनोविज्ञान के उद्देश्य– यह मनोविज्ञान का एक क्षेत्र है जो शिक्षा और सीखने की प्रक्रियाओं पर केंद्रित है। शैक्षिक मनोवैज्ञानिक छात्रों को सीखने में कठिनाई वाले छात्रों की पहचान करने और उनका समर्थन करने, शिक्षण और पाठ्यक्रम विकास में सुधार करने, और स्कूलों और शिक्षकों के लिए परामर्श प्रदान करने में मदद करते हैं।
  • सामाजिक मनोविज्ञान- यह मनोविज्ञान का महत्व एक क्षेत्र है जो व्यक्तियों के विचारों, भावनाओं और व्यवहारों पर सामाजिक प्रभावों का अध्ययन करता है। सामाजिक मनोवैज्ञानिक समूह गतिशीलता, सामाजिक धारणा, अनुभव, पूर्वाग्रह, और आक्रामकता जैसे विषयों पर शोध करते हैं।
  • बाल मनोविज्ञान– यह मनोविज्ञान का एक क्षेत्र है जो बच्चों के विकास का अध्ययन करता है, जिसमें शारीरिक, संज्ञानात्मक, सामाजिक और भावनात्मक विकास शामिल है। बाल मनोवैज्ञानिक बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों का मूल्यांकन और उपचार करते हैं, माता-पिता और शिक्षकों को परामर्श प्रदान करते हैं, और बाल विकास और शिक्षा पर शोध करते हैं।

यह मनोविज्ञान के विभिन्न प्रकारों का केवल एक संक्षिप्त विवरण है। 12 वीं के बाद, आप अपनी रुचि और लक्ष्यों के आधार पर मनोविज्ञान में विभिन्न उप-विषयों में से किसी एक में स्नातक या स्नातकोत्तर डिग्री प्राप्त करने का विकल्प चुन सकते हैं।

मिर्च पाउडर बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें | How to start chili powder making business in Hindi

मनोविज्ञान बनने के लिए जरूरी कौशल – career in psychology in india in hindi

मनोविज्ञान बनने के लिए जरूरी कौशल - 12 वीं के बाद मनोविज्ञान

मनोविज्ञान में सफल करियर बनाने के लिए, आपके पास कुछ महत्वपूर्ण कौशल होने चाहिए।

  • संचार कौशल– मनोवैज्ञानिकों को ग्राहकों, रोगियों, परिवारों, और सहकर्मियों के साथ प्रभावी ढंग से संचार करने में सक्षम होना चाहिए।
  • सक्रिय श्रवण कौशल- मनोवैज्ञानिकों को अपने ग्राहकों की बातों को ध्यान से सुनने और समझने में सक्षम होना चाहिए।
  • समस्या को सुलझाने की क्षमता– मनोवैज्ञानिकों को जटिल समस्याओं का विश्लेषण करने और प्रभावी समाधान विकसित करने में सक्षम होना चाहिए।
  • सहानुभूति और करुणा– मनोवैज्ञानिकों को अपने ग्राहकों की भावनाओं को समझने और सहानुभूति दिखाने में सक्षम होना चाहिए।
  • धैर्य और समझदारी– मनोवैज्ञानिकों को धैर्यवान और समझदार होना चाहिए, क्योंकि वे अक्सर कठिन परिस्थितियों का सामना करने वाले लोगों के साथ काम करते हैं।
  • अनुसंधान कौशल– यदि आप अनुसंधान में रुचि रखते हैं, तो आपको अनुसंधान प्रश्नों को डिजाइन करने, डेटा एकत्र करने और विश्लेषण करने, और निष्कर्ष निकालने में सक्षम होना चाहिए।

12 वीं के बाद मनोविज्ञान , आप मनोविज्ञान में स्नातक कार्यक्रम में प्रवेश करके इन कौशलों को विकसित करना शुरू कर सकते हैं। स्नातक कार्यक्रम आपको मनोविज्ञान के बुनियादी सिद्धांतों और विभिन्न उप-विषयों से परिचित कराएगा।

मनोविज्ञान में करियर उन लोगों के लिए एक पुरस्कृत और चुनौतीपूर्ण विकल्प है जो मानसिक स्वास्थ्य और मानव व्यवहार में रुचि रखते हैं। यदि आप दूसरों की मदद करने और उनके जीवन में सकारात्मक बदलाव लाने के लिए प्रतिबद्ध हैं, तो मनोविज्ञान आपके लिए सही करियर विकल्प हो सकता है।

साबुन बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें | Home made soap making business in hindi

मनोविज्ञान बनने के लिए टॉप कोर्स – best career in psychology in hindi

मनोविज्ञान बनने के लिए टॉप कोर्स

12 वीं के बाद मनोविज्ञान, आप मनोविज्ञान में विभिन्न स्नातक और स्नातकोत्तर डिग्री कार्यक्रमों का विकल्प चुन सकते हैं।

यहां कुछ लोकप्रिय कोर्सेज दिए गए हैं

  • बी.ए. (मनोविज्ञान)– यह एक सामान्य स्नातक डिग्री है जो आपको मनोविज्ञान के बुनियादी सिद्धांतों और विभिन्न उप-विषयों से परिचित कराती है।
  • बी.एससी. (मनोविज्ञान)- यह स्नातक डिग्री बी.ए. (मनोविज्ञान) की तुलना में अधिक वैज्ञानिक दृष्टिकोण प्रदान करती है। इसमें अनुसंधान पद्धति और सांख्यिकी पर अधिक ध्यान दिया जाता है।
  • एम.ए. (मनोविज्ञान)– यह स्नातकोत्तर डिग्री आपको मनोविज्ञान के एक विशिष्ट उप-विषय में विशेषज्ञता प्राप्त करने की अनुमति देती है।
  • एम.एससी. (मनोविज्ञान)- यह स्नातकोत्तर डिग्री एम.ए. (मनोविज्ञान) की तुलना में अधिक अनुसंधान केंद्रित है। इसमें अनुसंधान पद्धति, डेटा विश्लेषण, और प्रयोगात्मक डिजाइन पर अधिक ध्यान दिया जाता है।
  • एम.फिल. (मनोविज्ञान)– यह स्नातकोत्तर अनुसंधान डिग्री है जो आपको मनोविज्ञान में स्वतंत्र अनुसंधान करने के लिए तैयार करती है।
  • पीएच.डी. (मनोविज्ञान)– यह सर्वोच्च शैक्षणिक डिग्री है जो आपको मनोविज्ञान में विशेषज्ञ बनने की अनुमति देती है।

एलोवेरा की खेती कैसे करें | How to do aloe vera business in Hindi

मनोविज्ञान बनने के लिए बैचलर डिग्री कोर्स – career in psychology in india salary in hindi

मनोविज्ञान बनने के लिए बैचलर डिग्री कोर्स - 12 वीं के बाद मनोविज्ञान

12 वीं के बाद मनोविज्ञान, आप मनोविज्ञान में विभिन्न बैचलर डिग्री कार्यक्रमों का विकल्प चुन सकते हैं। ये कार्यक्रम आपको मनोविज्ञान के बुनियादी सिद्धांतों और विभिन्न उप-विषयों से परिचित कराएंगे।

यहां कुछ लोकप्रिय बैचलर डिग्री कोर्सेज दिए गए हैं

  • बी.ए. (मनोविज्ञान)– यह सबसे सामान्य बैचलर डिग्री है जो मनोविज्ञान के विभिन्न पहलुओं का अध्ययन करती है। इसमें विकासात्मक मनोविज्ञान, सामाजिक मनोविज्ञान, असामान्य मनोविज्ञान, नैदानिक मनोविज्ञान, और औद्योगिक और संगठनात्मक मनोविज्ञान जैसे विषय शामिल हैं।
  • बी.एससी. (मनोविज्ञान)- यह डिग्री बी.ए. (मनोविज्ञान) की तुलना में अधिक वैज्ञानिक दृष्टिकोण प्रदान करती है। इसमें अनुसंधान पद्धति, सांख्यिकी, और प्रयोगात्मक मनोविज्ञान पर अधिक ध्यान दिया जाता है।
  • बी.ए. (ऑनर्स) मनोविज्ञान– यह डिग्री बी.ए. (मनोविज्ञान) की तुलना में अधिक गहन अध्ययन प्रदान करती है। इसमें मनोविज्ञान के एक विशिष्ट क्षेत्र में विशेषज्ञता प्राप्त करने का अवसर शामिल है।
  • बी.वोक. (मनोविज्ञान)– यह डिग्री व्यवहारिक अनुभव पर अधिक ध्यान देती है। इसमें इंटर्नशिप और फील्ड वर्क के अवसर शामिल हैं।

आप अपनी रुचि, कौशल, और भविष्य की योजनाओं के आधार पर उपरोक्त में से किसी भी डिग्री का चुनाव कर सकते हैं।**

बैचलर डिग्री पूरी करने के बाद, आप मनोविज्ञान में स्नातकोत्तर डिग्री प्राप्त करने या अन्य क्षेत्रों में करियर बनाने का विकल्प चुन सकते हैं।

यहां कुछ कैरियर विकल्प दिए गए हैं जो आप बैचलर डिग्री के साथ आगे बढ़ा सकते हैं

  • क्लिनिकल साइकोलॉजिस्ट
  • स्कूल काउंसलर
  • इंडस्ट्रियल-ऑर्गेनाइजेशनल साइकोलॉजिस्ट
  • ह्यूमन रिसोर्स स्पेशलिस्ट
  • सोशल वर्कर
  • रिसर्च असिस्टेंट

आइसक्रीम बनाने का बिजनेस कैसे करें | how to start ice cream wholesale business in hindi

12 वीं के बाद मनोविज्ञान बनने के लिए जरूरी योग्यताएं

मनोविज्ञान बनने के लिए जरूरी योग्यताएं

12वीं के बाद मनोविज्ञान में करियर बनाने के लिए, आपको योग्यता और शैक्षिक योग्यता दोनों को पूरा करना होगा।

योग्यता

  • मनोविज्ञान में रुचि और जुनून
  • मानसिक स्वास्थ्य और मानव व्यवहार में समझ
  • संचार और सक्रिय श्रवण कौशल
  • समस्या को सुलझाने की क्षमता
  • सहानुभूति और करुणा
  • धैर्य और समझदारी
  • अनुसंधान कौशल (यदि आप अनुसंधान में रुचि रखते हैं)

शैक्षिक योग्यता

  • मनोविज्ञान में 12 वीं उत्तीर्ण
  • मनोविज्ञान में स्नातक डिग्री (बी.ए./बी.एससी./बी.ए. (ऑनर्स)/बी.वोक.)
  • मनोविज्ञान में स्नातकोत्तर डिग्री (एम.ए./एम.एससी.) (वैकल्पिक)
  • राष्ट्रीय मनोविज्ञान परिषद द्वारा आयोजित योग्यता परीक्षा उत्तीर्ण (मनोवैज्ञानिक बनने के लिए)

कुछ उपयोगी वेबसाइटें

कोल्ड ड्रिंक कैसे बनती है | How to make cold drink in Hindi

12 वीं के बाद मनोविज्ञान बनने के लिए आवश्यक दस्तावेज

मनोविज्ञान बनने के लिए आवश्यक दस्तावेज

12 वीं के बाद मनोविज्ञान में प्रवेश या नौकरी के लिए आवेदन करते समय, आपको कुछ आवश्यक दस्तावेज जमा करने होंगे।

यहां कुछ सामान्य दस्तावेजों की सूची दी गई है जिनकी आपको आवश्यकता होगी

  • शैक्षिक प्रमाण पत्र: 10वीं और 12वीं की मार्कशीट और प्रमाण पत्र
  • आधार कार्ड- पहचान के लिए
  • पैन कार्ड– पता प्रमाण के लिए
  • जन्म प्रमाण पत्र– आयु प्रमाण के लिए
  • छायाचित्र– पहचान के लिए (आमतौर पर 2-4)
  • स्वास्थ्य प्रमाण पत्र- कुछ मामलों में (विशेष रूप से स्नातकोत्तर कार्यक्रमों के लिए)
  • जाति प्रमाण पत्र– (यदि लागू हो)
  • विलंब शुल्क भुगतान रसीद- (यदि देरी से आवेदन कर रहे हैं)
  • अनुभव प्रमाण पत्र- (यदि कोई हो, नौकरी के लिए आवेदन करते समय)
  • चरित्र प्रमाण पत्र– (कुछ मामलों में)
  • गैर-आपराधिक रिकॉर्ड प्रमाण पत्र- (कुछ मामलों में)

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि यह केवल एक सामान्य सूची है और कुछ विश्वविद्यालयों या नियोक्ताओं को अतिरिक्त दस्तावेजों की आवश्यकता हो सकती है।

आपको हमेशा संबंधित संस्थान या नियोक्ता की वेबसाइट या प्रवेश प्रॉस्पेक्टस की जांच करनी चाहिए ताकि यह पता लगाया जा सके कि उन्हें कौन से विशिष्ट दस्तावेज आवश्यक हैं।**

यहां कुछ अतिरिक्त सुझाव दिए गए हैं

  • अपने सभी दस्तावेजों की फोटोकॉपी बनाकर रखें।
  • अपने दस्तावेजों को व्यवस्थित और सुरक्षित जगह पर रखें।
  • आवेदन करने से पहले सभी दस्तावेजों की पूरी तरह से जांच कर लें

कपड़े धोने का साबुन का बिजनेस | how to make detergent powder in Hindi

मनोविज्ञान बनने के लिए प्रवेश परीक्षाएं

मनोविज्ञान बनने के लिए प्रवेश परीक्षाएं - 12 वीं के बाद मनोविज्ञान

12 वीं के बाद, मनोविज्ञान में स्नातक या स्नातकोत्तर कार्यक्रम में प्रवेश पाने के लिए आपको प्रवेश परीक्षा देनी पड़ सकती है।

यहां कुछ प्रमुख प्रवेश परीक्षाएं दी गई हैं

  • राष्ट्रीय योग्यता परीक्षा (एनईईटी)– यह चिकित्सा और दंत चिकित्सा स्नातक कार्यक्रमों में प्रवेश के लिए एक राष्ट्रीय स्तर की परीक्षा है। यदि आप मनोविज्ञान में क्लिनिकल स्पेशलाइजेशन करना चाहते हैं, तो आपको एनईईटी उत्तीर्ण करना होगा।
  • ऑल इंडिया यूजीईईटी (एआईयूजीईईटी)- यह भारत में विभिन्न विश्वविद्यालयों में स्नातक मनोविज्ञान कार्यक्रमों में प्रवेश के लिए एक राष्ट्रीय स्तर की परीक्षा है।
  • दिल्ली विश्वविद्यालय प्रवेश परीक्षा (डीयूईटी)- यह दिल्ली विश्वविद्यालय में स्नातक मनोविज्ञान कार्यक्रमों में प्रवेश के लिए एक विश्वविद्यालय स्तर की परीक्षा है।
  • जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय प्रवेश परीक्षा (जेएनयूईईटी)– यह जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में स्नातक मनोविज्ञान कार्यक्रमों में प्रवेश के लिए एक विश्वविद्यालय स्तर की परीक्षा है।
  • भारतीय मनोवैज्ञानिक संघ (आईपीएस) प्रवेश परीक्षा– यह भारत में विभिन्न विश्वविद्यालयों में स्नातकोत्तर मनोविज्ञान कार्यक्रमों में प्रवेश के लिए एक राष्ट्रीय स्तर की परीक्षा है।

हॉर्लिक्स का बिजनेस कैसे शुरू करें | how to make horlicks at home in hindi

मनोविज्ञान बनने के लिए भारतीय प्रवेश परीक्षाएं

मनोविज्ञान बनने के लिए भारतीय प्रवेश परीक्षाएं

12 वीं के बाद, मनोविज्ञान में स्नातक या स्नातकोत्तर कार्यक्रम में प्रवेश पाने के लिए आपको प्रवेश परीक्षा देनी पड़ सकती है।

यहां कुछ प्रमुख भारतीय प्रवेश परीक्षाएं दी गई हैं

  • राष्ट्रीय योग्यता परीक्षा (एनईईटी)- यह चिकित्सा और दंत चिकित्सा स्नातक कार्यक्रमों में प्रवेश के लिए एक राष्ट्रीय स्तर की परीक्षा है। यदि आप मनोविज्ञान में क्लिनिकल स्पेशलाइजेशन करना चाहते हैं, तो आपको एनईईटी उत्तीर्ण करना होगा।
  • ऑल इंडिया यूजीईईटी (एआईयूजीईईटी)– यह भारत में विभिन्न विश्वविद्यालयों में स्नातक मनोविज्ञान कार्यक्रमों में प्रवेश के लिए एक राष्ट्रीय स्तर की परीक्षा है।
  • दिल्ली विश्वविद्यालय प्रवेश परीक्षा (डीयूईटी)– यह दिल्ली विश्वविद्यालय में स्नातक मनोविज्ञान कार्यक्रमों में प्रवेश के लिए एक विश्वविद्यालय स्तर की परीक्षा है।
  • जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय प्रवेश परीक्षा (जेएनयूईईटी)– यह जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में स्नातक मनोविज्ञान कार्यक्रमों में प्रवेश के लिए एक विश्वविद्यालय स्तर की परीक्षा है।
  • भारतीय मनोवैज्ञानिक संघ (आईपीएस) प्रवेश परीक्षा– यह भारत में विभिन्न विश्वविद्यालयों में स्नातकोत्तर मनोविज्ञान कार्यक्रमों में प्रवेश के लिए एक राष्ट्रीय स्तर की परीक्षा है।
  • विश्वविद्यालय स्तरीय प्रवेश परीक्षाएं– कुछ विश्वविद्यालय अपनी स्वयं की स्नातक या स्नातकोत्तर मनोविज्ञान कार्यक्रमों में प्रवेश के लिए प्रवेश परीक्षाएं आयोजित करते हैं।

रसना बिजनेस कैसे शुरू करें | How to start Rasna making business in hindi

12 वीं के बाद मनोविज्ञान बनने के लिए भाषा आवश्यकताएं

मनोविज्ञान बनने के लिए भाषा आवश्यकताएं

यहां कुछ सामान्य भाषा आवश्यकताएं दी गई हैं

स्नातक कार्यक्रम
अंग्रेजी- अधिकांश स्नातक कार्यक्रम में अंग्रेजी भाषा का ज्ञान आवश्यक है।
हिंदी- कुछ विश्वविद्यालय हिंदी या अन्य क्षेत्रीय भाषा में अध्ययन के विकल्प भी प्रदान करते हैं।
प्रशिक्षण कार्यक्रम-
अंग्रेजी- अधिकांश परमाणु कार्यक्रम भाषा में अंग्रेजी भाषा आवश्यक है।
शोध कार्य- यदि आप शोध कार्य में रुचि रखते हैं, तो अंग्रेजी भाषा में पढ़ें और पुस्तक में मजबूत कौशल विकसित करने की आवश्यकता है।
यहां दी गई कुछ अतिरिक्त बातें जिन पर आपको विचार करना चाहिए

विदेशी भाषा- यदि आप अंतरराष्ट्रीय स्तर पर रुचि रखना चाहते हैं, तो आपको अंग्रेजी के अलावा अन्य भाषाओं को सीखने पर विचार करना चाहिए।
कौशल- सशक्त भाषा संदेश कौशल किसी भी मनोवैज्ञानिक के लिए महत्वपूर्ण होते हैं। इसमें स्पष्ट और रूपात्मक रूप से स्पीकर और पद की क्षमता शामिल है।
यदि आपके लिए मनोविज्ञान में सृजन करना गंभीर है, तो अपनी भाषा कौशल विकसित करना महत्वपूर्ण है।

कड़ी मेहनत और समर्पण के साथ, आप अपनी भाषा की ताकतों में सुधार कर सकते हैं और अपनी स्वप्न की विरासत को प्राप्त कर सकते हैं।

एनर्जी ड्रिंक बनाने का बिजनेस | how to start energy drink business in Hindi

12 वीं के बाद मनोविज्ञान पुस्तक पुस्तकें

मनोविज्ञान पुस्तक पुस्तकें - 12 वीं के बाद मनोविज्ञान

12 वीं सदी के बाद के दार्शनिक आवश्यक पुस्तकें
12वीं के बाद, विचारधारा में रचना के लिए आपको विषय की गहन समझ विकसित करने की आवश्यकता है।

यहां कुछ आवश्यक पुस्तकें दी गई हैं जो आपको आरंभ करने में मदद करेंगी

  1. मनोविज्ञान का परिचय

“मनोविज्ञान- एक परिचय” (मनोविज्ञान का परिचय) – रॉबर्ट एम. बियर्स (रॉबर्ट एम. बियर्स)
“मनोविज्ञान- सिद्धांत और सिद्धांत” (मनोविज्ञान- सिद्धांत और अनुप्रयोग) – रिचर्ड एल। ओल्टमैन (रिचर्ड एल. एटकिंसन)

  1. सामान्य मनोविज्ञान

“सामान्य मनोविज्ञान” (सामान्य मनोविज्ञान) – फ्रैंक ए. बाउम (फ्रैंक ए. बाउम)
“सामान्य मनोविज्ञान- वैज्ञानिक दृष्टिकोण” (सामान्य मनोविज्ञान- एक एकीकृत दृष्टिकोण) – जॉन एम. फ़िस्के और शैरी ए. डुबॉइस (जॉन एम. फिस्के और शेरी ए. डुबॉइस)

  1. विकासात्मक मनोविज्ञान

“विकासात्मक मनोविज्ञान- बालक से किशोर तक” (विकासात्मक मनोविज्ञान- शिशु अवस्था से किशोरावस्था तक) – रिचर्ड। मार्टिन और एंजेलिका लॉरेंट (रिचर्ड एच. मार्टिन और एंजेलिका लोब्यू)
“विकासात्मक सिद्धांत- वैज्ञानिक दृष्टिकोण” (जीवनकाल विकास) – कैथलीन एम. रॉबर्ट्स (कैथलीन एम. रॉबर्ट्स)

  1. सामाजिक मनोविज्ञान

“सामाजिक मनोविज्ञान” (सामाजिक मनोविज्ञान) – एलियट एरिक (इलियट एरोनसन)
“सामाजिक मनोविज्ञान- एक वैज्ञानिक दृष्टिकोण” (सामाजिक मनोविज्ञान- एक वैज्ञानिक दृष्टिकोण) – स्टीवन ए. एयरन (स्टीवन ए. एयरन)

  1. असामान्य विचारधारा

“असामान्य मनोविज्ञान- विकार और उपचार” (असामान्य मनोविज्ञान- विकार और उपचार) – डेविड एबिंगर और डेविड एच.एच. क्लेन (डेविड ई. बीकर और डेविड एच. क्लेन)
“असामान्य मनोविज्ञान- एक वैज्ञानिक दृष्टिकोण” (असामान्य मनोविज्ञान- एक वैज्ञानिक दृष्टिकोण)
गिल्डा एल. बार्लोव और स्टीवन सी. फ्रॉस्ट (गिल्डा एल. बार्लो और स्टीवन सी. फ्रॉस्ट)
यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि यह केवल एक प्रारंभिक सूची है और अन्य कई उपयोगी पुस्तकें उपलब्ध हैं।

आपको अपनी रुचि और स्टार्टअप स्तर के अनुसार परामर्श का चयन करना चाहिए।

इसके अलावा, ऑफ़लाइन ऑफ़लाइन, जर्नल और फोटोग्राफर का उपयोग करके आप अपना ज्ञान सीख सकते हैं।

मिनरल वाटर का बिजनेस कैसे शुरू करें | how to start mineral water business in india in hindi

मनोविज्ञान बनने के लिए करियर स्कोप

12वीं के बाद, आदर्श एक आकर्षक और प्रतिभाशाली विकल्प हो सकते हैं। यह क्षेत्र विभिन्न प्रकार की वैधता और अवसरों की पेशकश करता है, जो आपको अपनी रुचि और कौशल के अनुसार विकल्प की स्वतंत्रता देता है।

यहां पर विचारधारा के कुछ अंश दिए गए हैं

क्लिनिकल मनोवैज्ञानिक- मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञों से परामर्श, निदान और उपचार करते हैं।
स्टार्ट-अप टिप्पणियाँ- छात्र की-स्टार्ट सफलता को बेहतर बनाने के लिए स्कूल और प्लांट के साथ मिलकर काम करते हैं।
विशेषज्ञ मनोवैज्ञानिक- कर्मचारियों को प्रेरित करना, कर्मचारियों को प्रेरित करना और कर्मचारियों को बेहतर बनाने में कर्मचारियों की मदद करना शामिल है।
क्लिनिकल मनोवैज्ञानिक- कानूनी आधार में मूल्यांकन, साक्ष्य प्रस्तुत करना और साक्ष्य प्रस्तुत करना मदद करते हैं।
मनोवैज्ञानिक परामर्शदाता- समूह, जोड़ और परिवार को जीवन की विभिन्न चुनौतियों से बचाने में मदद करते हैं।
खेल मनोवैज्ञानिक- खिलाड़ियों को उनके प्रदर्शन को बेहतर बनाने और मानसिक दबाव को प्रबंधित करने में मदद मिलती है।
स्कूल पाठ्यपुस्तक- छात्र की-स्टार्टअप सफलता को बेहतर बनाने के लिए स्कूल और बिल्डिंग के साथ मिलकर काम करते हैं।
स्वास्थ्य मनोविज्ञान- लोगों को स्वस्थ व्यवहार विकसित करने और बीमारी का प्रबंधन करने में मदद मिलती है।
क्लिनिकल न्यूरोसाइकोलॉजी- मस्तिष्क की चोट या बीमारी से प्रभावित लोगों का आकलन और उपचार किया जाता है।

अगरबत्ती बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें | how to start incense stick business in Hindi

मनो12 वीं के बाद मनोविज्ञान बनने के बाद टॉप रिक्रूटिंग कंपनिया

12 वीं सदी के बाद विचारधारा में शास्त्र बनाने के लिए, आपको शिक्षा पूरी करने और आवश्यक लाइसेंस और प्रमाण पत्र प्राप्त करने के बाद नौकरी अपनी तलाशनी होगी।

यहां कुछ शीर्ष भर्ती उद्योग हैं जो मनोवैज्ञानिकों की भर्ती करते हैं

  1. सरकारी अस्पताल एवं स्वास्थ्य केंद्र

वेबसाइट- https://mohfw.gov.in/
पता- स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय,
केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय, एन.बी.सी. भवन, 3-एड फ्लोर, नई दिल्ली – 110001

  1. मानसिक स्वास्थ्य एवं केंद्र

वेबसाइट- https://nimhans.ac.in/
पता- राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य एवं तंत्रिका विज्ञान संस्थान,
क्वेंजाबाद रोड, बैंगलोर – 560029, कर्नाटक

  1. अकादमी संस्थान

वेबसाइट- https://www.du.ac.in/
पता- दिल्ली विश्वविद्यालय,
दिल्ली विश्वविद्यालय उत्तर परिसर,
दिल्ली – 110007

  1. व्यावसायिक और औद्योगिक मशीनरी

वेबसाइट- https://www.tcs.com/
पता- टाटा कंसल्टेंट,
नवी मुंबई, महाराष्ट्र

  1. गैर-पदस्थ और पदस्थापन

वेबसाइट- https:// Indianredcross.org/ircs/aboutus
पता- भारतीय रेड क्रॉस सोसायटी,
इरविन रोड, नई दिल्ली – 110001

ब्रेड बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें | how to start bread making business in hindi

मनोविज्ञान बनने के बाद कमाई की बात करें

12वीं सदी के बाद विचारधारा में कई लोगों के मन में वेतन को लेकर सवाल उठते हैं।

भारत मे-

प्रारंभिक वेतन- एक मनोवैज्ञानिक का प्रारंभिक वेतन ₹25,000 से ₹40,000 प्रति माह के बीच हो सकता है।
अनुभव के साथ वेतन- अनुभव और विशेषज्ञता के साथ, बढ़ा हुआ वेतन मिलता है।
वरिष्ठ मनोवैज्ञानिक- ₹1 लाख प्रति माह या उससे अधिक कमा सकते हैं।
कार्य क्षेत्र- आपके वेतनमान पर भी सहमति है।
सरकारी नौकरी- सरकारी मनोवैज्ञानिकों को ₹50,000 से ₹80,000 प्रति माह का वेतन मिल सकता है।
निजी क्षेत्र- निजी क्षेत्र में वेतन अधिक हो सकता है, ₹1 लाख प्रति माह या उससे अधिक।
विदेश में-

वेतन- वेतन देश, अनुभव, योग्यता और विशेषज्ञता के आधार पर अलग-अलग होता है।
संयुक्त राज्य अमेरिका- औसत वेतन $60,000 प्रति वर्ष है।
कनाडा- औसत वेतन $80,000 प्रति वर्ष।
यूनाइटेड किंगडम- औसत वेतन £40,000 प्रति वर्ष है।
ऑस्ट्रेलिया- औसत वेतन $70,000 प्रति वर्ष।

निष्कर्ष – Conclusion

12वीं के बाद मनोविज्ञान का क्षेत्र उन लोगों के लिए एक आकर्षक और फायदेमंद करियर विकल्प हो सकता है जो मानवीय मस्तिष्क और व्यवहार को समझने में रुचि रखते हैं। यह एक ऐसा क्षेत्र है जो आपको लोगों की मदद करने और सकारात्मक बदलाव लाने का मौका देता है।

हालाँकि, यह तय करना कि मनोविज्ञान आपके लिए उपयुक्त है या नहीं, यह एक महत्वपूर्ण निर्णय है। इस आर्टिकल में, हमने आपको 12वीं के बाद मनोविज्ञान में करियर बनाने के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान की है, जिसमें शिक्षा आवश्यकताओं, प्रवेश परीक्षाओं, आवश्यक पुस्तकों, करियर स्कोप, शीर्ष भर्ती कंपनियों और वेतन पैकेज शामिल हैं।

मेयोनेज़ बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें | mayonnaise kaise banta hai in hindi

12 वीं के बाद मनोविज्ञान में करियर के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले सवाल (FAQ)

Q. 12वीं के बाद मनोविज्ञान में करियर कैसे बनाएं?

Ans. 12वीं सदी के बाद विचारधारा में क्रांति लाने के लिए आपको निम्नलिखित चरणों का पालन करना होगा
स्नातक की डिग्री प्राप्त करना- मनोविज्ञान में स्नातक की डिग्री (बी.ए. या बी.एससी.) प्राप्त करना अनिवार्य है।
इंस्टीट्यूट की डिग्री प्राप्त करें (वैकल्पिक)- यदि आप अपने बिजनेस में आगे की डिग्री प्राप्त करना चाहते हैं, तो आप इंस्टीट्यूट की डिग्री (एम.ए. या एम.एससी.) भी प्राप्त कर सकते हैं।

Q. मनोविज्ञान में करियर के लिए आवश्यक कौशल क्या हैं?

Ans. संचार कौशल- मनोवैज्ञानिकों को अपने हितों के साथ प्रभावशाली ढंग से संवाद करने में सक्षम होना चाहिए।
सक्रिय श्रवण के कौशल- मनोवैज्ञानिकों को अपने उद्देश्यों को ध्यान से सुनने और उनकी भावनाओं को समझने में सक्षम बनाना चाहिए।
प्लास्टिसिन के कौशल- वैज्ञानिकों को अपने ग्राहकों की समस्याओं का समाधान खोजने में सक्षम होना चाहिए।

Q. मनोविज्ञान में करियर के अवसर क्या हैं?

Ans. विचारधारा में इतिहास के कई अवसर उपलब्ध हैं, जिनमें शामिल हैं
क्लिनिकल मनोवैज्ञानिक- मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञों से परामर्श, निदा और उपचार करते हैं।
स्टार्ट-अप टिप्पणियाँ- छात्र की-स्टार्ट सफलता को बेहतर बनाने के लिए स्कूल और प्लांट के साथ मिलकर काम करते हैं।
विशेषज्ञ मनोवैज्ञानिक- कर्मचारियों को प्रेरित करना, कर्मचारियों को प्रेरित करना और कर्मचारियों को बेहतर बनाने में कर्मचारियों की मदद करना शामिल है।

पॉपकॉर्न का बिजनेस कैसे करें | How to do popcorn business in hindi

Leave a Comment