कलेक्टर कैसे बने | How to become a collector in Hindi

Photo of author

By Dharmendra Kumar

5/5 - (1 vote)

क्या आप भारत के प्रशासनिक ढांचे का अहम हिस्सा बनना चाहते हैं? क्या आप जिला प्रशासन का नेतृत्व करने और लोगों के लिए सकारात्मक बदलाव लाने की इच्छा रखते हैं? कलेक्टर कैसे बने अगर हां, तो जिला कलेक्टर बनने का रास्ता आपके लिए सबसे उपयुक्त हो सकता है. इस पद के लिए अत्यधिक प्रतिष्ठा जुड़ी है और यह युवाओं के बीच काफी लोकप्रिय कैरियर विकल्पों में से एक है. इस लेख में, हम आपको विस्तार से बताएंगे कि आप जिला कलेक्टर कैसे बन सकते हैं, इसके लिए आवश्यक योग्यताएं क्या हैं और इसके लिए कौन सी परीक्षा देनी होती है.

Table of Contents

कलेक्टर का फुल फॉर्म

कलेक्टर का फुल फॉर्म जिलाधिकारी (डीएम) होता है। यह भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के अधिकारियों का एक शीर्ष पद है।

एमबीबीएस डॉक्टर कैसे बने |How to become MBBS doctor in hindi

कलेक्टर कौन होता है – Who is a Collector in Hindi

Who is a Collector in Hindi

जिला कलेक्टर, जिसे उपायुक्त या जिलाधिकारी (DM) भी कहा जाता है, भारत सरकार के प्रतिनिधि के रूप में पूरे जिले का प्रशासन संभालते हैं. यह भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) के अधिकारियों का एक प्रतिष्ठित पद है, जो सिविल सेवा परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले अभ्यर्थियों के लिए खुला होता है. कलेक्टर जिले में कानून व्यवस्था बनाए रखने, राजस्व वसूलने, विकास कार्यक्रमों को लागू करने और विभिन्न सरकारी विभागों के कार्यों का समन्वय करने के लिए जिम्मेदार होते हैं.

वे जिले में आपदा प्रबंधन, सामाजिक न्याय, शिक्षा, स्वास्थ्य, कृषि, और बुनियादी ढांचे के विकास जैसे महत्वपूर्ण कार्यों का भी नेतृत्व करते हैं. कलेक्टर की भूमिका बहुआयामी होती है और इसमें विभिन्न हितधारकों के साथ समन्वय स्थापित करना, नीतियां बनाना और उनका क्रियान्वयन करना, और जनता की समस्याओं का समाधान करना शामिल होता है.

कलेक्टरी का पद चुनौतीपूर्ण होने के साथ-साथ अत्यधिक पुरस्कृत करने वाला भी होता है. यदि आप एक ऐसा करियर ढूंढ रहे हैं जिसमें आप समाज में सकारात्मक बदलाव ला सकते हैं और लोगों के जीवन को बेहतर बना सकते हैं, तो जिला कलेक्टर बनने का लक्ष्य रखना निश्चित रूप से एक प्रेरणादायक विचार है.

कलेक्टर के विभिन्न प्रकार – Different types of collectors in Hindi

भारत में, विभिन्न प्रकार के कलेक्टर होते हैं जो विभिन्न स्तरों पर कार्य करते हैं

कलेक्टर कैसे बने के बारे में महत्त्पूर्ण बिंदु

  • 1. जिला कलेक्टर– यह सबसे आम प्रकार का कलेक्टर है, जो एक पूरे जिले का प्रशासन संभालता है.
  • 2. संभागीय आयुक्त- यह कलेक्टरों का एक वरिष्ठ अधिकारी होता है जो एक मंडल या संभाग के कई जिलों का निरीक्षण करता है.
  • 3. पुलिस महानिदेशक (DGP)- यह राज्य स्तरीय अधिकारी होता है जो पूरे राज्य में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए जिम्मेदार होता है.
  • 4. मुख्य सचिव– यह राज्य का सर्वोच्च प्रशासनिक अधिकारी होता है और राज्य सरकार के सभी विभागों का प्रमुख होता है.
  • 5. केन्द्र शासित प्रदेश के प्रशासक- यह केंद्र सरकार द्वारा नियुक्त एक अधिकारी होता है जो केंद्र शासित प्रदेश का प्रशासन संभालता है.इनके अलावा, कुछ विशिष्ट प्रकार के कलेक्टर भी होते हैं, जैसे कि
  • आबकारी कलेक्टर– यह आबकारी विभाग का प्रमुख होता है और शराब और अन्य नशीली वस्तुओं पर करों का संग्रह करता है.
  • कस्टम कलेक्टर– यह सीमा शुल्क विभाग का प्रमुख होता है और आयात-निर्यात पर शुल्क वसूलता है.

डाटा साइंटिस्ट कैसे बने | How to become a data scientist in hindi

कलेक्टर बनने के लिए आवश्यक शैक्षणिक योग्यता एवं कौशल – Skills Required to Become a Collector

कलेक्टर बनने के लिए आवश्यक शैक्षणिक योग्यता एवं कौशल

Skills Required to Become a Collector

शैक्षणिक योग्यता– (qualification for collector)

  • कलेक्टर बनने के लिए, उम्मीदवार को किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से किसी भी विषय में स्नातक होना आवश्यक है.
  • हालांकि, कुछ राज्यों में, इंजीनियरिंग या चिकित्सा जैसे कुछ विशिष्ट विषयों में स्नातक होने को वरीयता दी जा सकती है.
  • उम्मीदवारों को सिविल सेवा परीक्षा (UPSC) उत्तीर्ण करनी होती है, जो भारत में सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक है.

आवश्यक कौशल

  • नेतृत्व कौशल– कलेक्टर को अपनी टीम का नेतृत्व करने और उन्हें प्रेरित करने में सक्षम होना चाहिए.
  • संचार कौशल– उन्हें विभिन्न हितधारकों के साथ प्रभावी ढंग से संवाद करने में सक्षम होना चाहिए.
  • समस्या समाधान कौशल– उन्हें जटिल समस्याओं का विश्लेषण करने और उनके समाधान खोजने में सक्षम होना चाहिए.
  • निर्णय लेने की क्षमता– उन्हें दबाव में भी त्वरित और निर्णायक निर्णय लेने में सक्षम होना चाहिए.
  • कार्य प्रबंधन कौशल– उन्हें कई कार्यों को कुशलतापूर्वक प्रबंधित करने में सक्षम होना चाहिए.
  • सांस्कृतिक समझ- उन्हें विभिन्न संस्कृतियों और पृष्ठभूमि के लोगों के साथ काम करने में सक्षम होना चाहिए.
  • ईमानदारी और सत्यनिष्ठा– उन्हें उच्च नैतिकता और मूल्यों का पालन करना चाहिए.

अतिरिक्त योग्यताएं:

  • कुछ उम्मीदवार अपनी योग्यता को बढ़ाने के लिए स्नातकोत्तर डिग्री या पेशेवर प्रमाण पत्र प्राप्त कर सकते हैं.
  • ग्रामीण क्षेत्रों में कार्य अनुभव या सामाजिक सेवा में भागीदारी भी फायदेमंद हो सकती है.

कलेक्टर बनने के लिए टॉप कोर्स – Courses to Become a Collector in Hindi

कलेक्टर बनने के लिए, उम्मीदवारों को सिविल सेवा परीक्षा (UPSC) उत्तीर्ण करनी होती है. यह परीक्षा भारत की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक है और इसके लिए व्यापक तैयारी की आवश्यकता होती है.

कलेक्टर कैसे बने के बारे में महत्त्पूर्ण बिंदु

यहां कुछ टॉप कोर्स दिए गए हैं जो आपको UPSC परीक्षा की तैयारी में मदद कर सकते हैं

1. स्नातक की डिग्री– UPSC परीक्षा में आवेदन करने के लिए उम्मीदवारों को किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से किसी भी विषय में स्नातक की डिग्री होना आवश्यक है.

2. कोचिंग क्लासेस– कई संस्थान UPSC तैयारी के लिए कोचिंग क्लासेस प्रदान करते हैं. ये क्लासेस आपको पाठ्यक्रम, अध्ययन सामग्री और मार्गदर्शन प्रदान कर सकती हैं.

3. ऑनलाइन संसाधन- UPSC तैयारी के लिए कई ऑनलाइन संसाधन भी उपलब्ध हैं, जैसे कि वेबसाइट, मंच और वीडियो.

4. पुस्तकें और अध्ययन सामग्री- बाजार में UPSC तैयारी के लिए कई पुस्तकें और अध्ययन सामग्री उपलब्ध हैं.

5. मॉडल पेपर और पिछले वर्षों के प्रश्नपत्र– मॉडल पेपर और पिछले वर्षों के प्रश्नपत्रों का अभ्यास करना UPSC परीक्षा की तैयारी के लिए महत्वपूर्ण है.

6. करेंट अफेयर्स– UPSC परीक्षा में करेंट अफेयर्स का अच्छा ज्ञान होना महत्वपूर्ण है. आप समाचार पत्र, पत्रिकाएँ और वेबसाइटों को पढ़कर करंट अफेयर्स से अपडेट रह सकते हैं.

12वीं के बाद दरोगा कैसे बने | How to become Inspector after 12th in hindi

कलेक्टर बनने के लिए बैचलर डिग्री कोर्स – Bachelor degree course to become a collector in Hindi

कलेक्टर बनने के लिए बैचलर डिग्री कोर्स

Bachelor degree course to become a collector in Hindi

कलेक्टर बनने के लिए क्या करना पड़ता है (collector banne ke liye kya karna padta hai) कलेक्टर बनने के लिए किसी विशिष्ट स्नातक डिग्री की आवश्यकता नहीं होती है. आप किसी भी विषय में स्नातक की डिग्री प्राप्त कर सकते हैं और फिर UPSC परीक्षा दे सकते हैं.

हालांकि, कुछ स्नातक डिग्री कोर्स ऐसे हैं जो आपको UPSC परीक्षा की तैयारी में मदद कर सकते हैं, जैसे कि

कलेक्टर कैसे बने के बारे में महत्त्पूर्ण बिंदु

collector banne ke liye subject

  • राजनीति विज्ञान– यह विषय आपको भारतीय राजनीति, शासन प्रणाली और सार्वजनिक नीति के बारे में जानकारी प्रदान करेगा, जो UPSC परीक्षा के लिए महत्वपूर्ण विषय हैं.
  • इतिहास– यह विषय आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के बारे में जानकारी प्रदान करेगा, जो UPSC परीक्षा के सामान्य ज्ञान खंड के लिए महत्वपूर्ण है.
  • कानून– यह विषय आपको भारतीय कानून और संविधान के बारे में जानकारी प्रदान करेगा, जो UPSC परीक्षा के कानूनी मामलों के खंड के लिए महत्वपूर्ण है.
  • अर्थशास्त्र– यह विषय आपको भारतीय अर्थव्यवस्था और उसके विभिन्न पहलुओं के बारे में जानकारी प्रदान करेगा, जो UPSC परीक्षा के अर्थव्यवस्था खंड के लिए महत्वपूर्ण है.
  • समाजशास्त्र– यह विषय आपको भारतीय समाज की संरचना और विभिन्न मुद्दों के बारे में जानकारी प्रदान करेगा, जो UPSC परीक्षा के समाजशास्त्र खंड के लिए महत्वपूर्ण है.

कलेक्टर बनने के लिए मास्टर डिग्री कोर्सेज – Master degree courses to become a collector

कलेक्टर बनने के लिए मास्टर डिग्री अनिवार्य नहीं है। आप किसी भी विषय में स्नातक की डिग्री प्राप्त कर सकते हैं और फिर UPSC परीक्षा दे सकते हैं।

हालांकि, कुछ मास्टर डिग्री कोर्स ऐसे हैं जो आपको UPSC परीक्षा की तैयारी में मदद कर सकते हैं, जैसे कि

कलेक्टर कैसे बने के बारे में महत्त्पूर्ण बिंदु

  • सार्वजनिक प्रशासन (MPA)– यह मास्टर डिग्री आपको सार्वजनिक प्रशासन के सिद्धांतों और प्रथाओं के बारे में गहन ज्ञान प्रदान करेगा, जो कलेक्टर के रूप में आपके काम के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है।
  • लोक नीति– यह मास्टर डिग्री आपको नीति निर्माण और विश्लेषण के बारे में ज्ञान प्रदान करेगा, जो कलेक्टर के रूप में आपके दैनिक कार्यों में महत्वपूर्ण होगा।
  • अंतर्राष्ट्रीय संबंध- यह मास्टर डिग्री आपको अंतरराष्ट्रीय संबंधों और वैश्विक मुद्दों के बारे में ज्ञान प्रदान करेगा, जो एक कलेक्टर के लिए महत्वपूर्ण हो सकता है जो सीमावर्ती जिले या बहुसांस्कृतिक आबादी वाले जिले में काम करता है।
  • कानून– यह मास्टर डिग्री आपको भारतीय कानून और संविधान के बारे में गहन ज्ञान प्रदान करेगा, जो कलेक्टर के रूप में आपके काम के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है।
  • अर्थशास्त्र- यह मास्टर डिग्री आपको भारतीय अर्थव्यवस्था और उसके विभिन्न पहलुओं के बारे में गहन ज्ञान प्रदान करेगा, जो कलेक्टर के रूप में आपके काम के लिए महत्वपूर्ण हो सकता है, खासकर यदि आप विकास या योजना विभाग में काम करते हैं।

नवोदय विद्यालय में प्रवेश के नियम 2024 – navodaya vidyalaya admission rules in hindi

कलेक्टर बनने के लिए टॉप भारतीय यूनिवर्सिटीज़ – Top Indian universities to become a collector

Top Indian universities to become a collector

कलेक्टर बनने के लिए, उम्मीदवारों को सिविल सेवा परीक्षा (UPSC) उत्तीर्ण करनी होती है. यह परीक्षा भारत की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक है और इसके लिए व्यापक तैयारी की आवश्यकता होती है.

यहां कुछ टॉप भारतीय यूनिवर्सिटीज़ हैं जो आपको UPSC तैयारी में मदद कर सकती हैं

  • दिल्ली विश्वविद्यालय, दिल्लीhttps://www.du.ac.in/
  • जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय, दिल्लीhttps://www.jnu.ac.in/
  • भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, दिल्ली- https://home.iitd.ac.in/
  • अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय, अलीगढ़- https://www.amu.ac.in/
  • बनारस हिंदू विश्वविद्यालय, वाराणसी- https://www.bhu.ac.in/
  • जादवपुर विश्वविद्यालय, कोलकाता- http://www.jaduniv.edu.in/
  • इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय, नई दिल्ली
  • हैदराबाद विश्वविद्यालय, हैदराबादhttps://uohyd.ac.in/
  • टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज, मुंबई- https://www.tiss.edu/

एक कलेक्टर की नौकरी का विवरण और जिम्मेदारियाँ – Job description and responsibilities of a Collector

जिलाधिकारी (डीएम), जिन्हें उपायुक्त या कलेक्टर भी कहा जाता है, भारत सरकार के प्रतिनिधि के रूप में पूरे जिले का प्रशासन संभालते हैं. यह भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) के अधिकारियों का एक प्रतिष्ठित पद है, जो सिविल सेवा परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले अभ्यर्थियों के लिए खुला होता है.

कलेक्टर कैसे बने के बारे में महत्त्पूर्ण बिंदु

जिम्मेदारियां

  • कानून व्यवस्था बनाए रखना– कलेक्टर जिले में शांति और व्यवस्था बनाए रखने के लिए जिम्मेदार होते हैं.
  • राजस्व वसूलना– वे भूमि, संपत्ति और अन्य स्रोतों से करों और शुल्कों का संग्रह करते हैं.
  • विकास कार्यक्रमों को लागू करना- वे शिक्षा, स्वास्थ्य, कृषि और बुनियादी ढांचे जैसे क्षेत्रों में विकास कार्यक्रमों की योजना और कार्यान्वयन करते हैं.
  • विभिन्न सरकारी विभागों के कार्यों का समन्वय करना- वे जिले में विभिन्न सरकारी विभागों के कार्यों का समन्वय करते हैं और यह सुनिश्चित करते हैं कि वे सुचारू रूप से काम करें.
  • आपदा प्रबंधन– वे प्राकृतिक आपदाओं और अन्य आपात स्थितियों के दौरान राहत और बचाव कार्यों का नेतृत्व करते हैं.
  • सामाजिक न्याय- वे सामाजिक न्याय और समानता को बढ़ावा देने के लिए काम करते हैं.
  • जनता की समस्याओं का समाधान करना– वे जनता की समस्याओं को सुनते हैं और उनका समाधान करने के लिए प्रयास करते हैं.

कलेक्टर बनने के लिए

  • सिविल सेवा परीक्षा उत्तीर्ण करें– कलेक्टर बनने के लिए, आपको सबसे पहले UPSC द्वारा आयोजित सिविल सेवा परीक्षा उत्तीर्ण करनी होगी. यह परीक्षा भारत की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक है और इसके लिए व्यापक तैयारी की आवश्यकता होती है.
  • संबंधित सेवा के लिए चयनित हों- सिविल सेवा परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद, आपको भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) के लिए चयनित होना होगा.
  • प्रशिक्षण पूरा करें– IAS में चयनित होने के बाद, आपको एक कठोर प्रशिक्षण कार्यक्रम से गुजरना होगा.

सरकारी आईटीआई में एडमिशन कैसे ले | how to get admission in government iti college in hindi

कलेक्टर बनने के लिए योग्यता – Eligibility to become a Collector in Hindi

कलेक्टर बनने के लिए, उम्मीदवारों को सिविल सेवा परीक्षा (UPSC) उत्तीर्ण करनी होती है. यह भारत की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक है और इसके लिए व्यापक तैयारी की आवश्यकता होती है.

यहां कलेक्टर बनने के लिए आवश्यक योग्यताएं दी गई हैं

शैक्षणिक योग्यता

  • किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से किसी भी विषय में स्नातक की डिग्री.
  • कोई न्यूनतम अंक प्रतिशत निर्धारित नहीं है, लेकिन अधिकांश उम्मीदवारों का स्नातक में 60% या उससे अधिक अंक होता है.

आयु सीमा

  • 21 वर्ष से 32 वर्ष (अनारक्षित श्रेणी के लिए)
  • 21 वर्ष से 35 वर्ष (एससी/एसटी श्रेणी के लिए)
  • 21 वर्ष से 37 वर्ष (ओबीसी श्रेणी के लिए)

भौतिक मानक

  • उम्मीदवारों को शारीरिक रूप से स्वस्थ होना चाहिए और किसी भी गंभीर बीमारी या विकलांगता से मुक्त होना चाहिए.
  • उम्मीदवारों को न्यूनतम ऊंचाई और छाती का माप निर्धारित मानकों को पूरा करना होगा.

अन्य योग्यताएं

  • भारतीय नागरिक होना चाहिए.
  • मानसिक रूप से स्वस्थ और मजबूत चरित्र का होना चाहिए.
  • नेतृत्व कौशल और संचार कौशल अच्छे होने चाहिए.
  • सामाजिक और आर्थिक मुद्दों के प्रति जागरूकता होनी चाहिए.

कलेक्टर बनने के लिए चयन प्रक्रिया

UPSC परीक्षा में तीन चरण होते हैं

  1. प्रारंभिक परीक्षा– यह एक वस्तुनिष्ठ, बहुविकल्पीय प्रश्न (MCQ) परीक्षा है जो उम्मीदवारों की सामान्य ज्ञान, तर्क और विश्लेषणात्मक क्षमता का आकलन करती है.
  2. मुख्य परीक्षा– यह एक लिखित परीक्षा है जिसमें निबंध, सामान्य अध्ययन और वैकल्पिक विषयों के प्रश्न शामिल होते हैं.
  3. साक्षात्कार– यह व्यक्तित्व और नेतृत्व क्षमताओं का आकलन करने के लिए एक व्यक्तिगत साक्षात्कार है.

अधिक जानकारी के लिए

कलेक्टर के लिए पहले कौन सी पढ़ाई करें – What studies should be done first for collector in Hindi

इस कलेक्टर बनने के लिए, आपको सिविल सेवा परीक्षा (UPSC) उत्तीर्ण करनी होगी. यह भारत की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक है, जिसमें लाखों उम्मीदवार शामिल होते हैं.

ये सवाल है कलेक्टर कैसे बने के बारे में महत्त्पूर्ण बिंदु

परीक्षा की तैयारी कैसे करें

  • शैक्षणिक योग्यता– UPSC परीक्षा में आवेदन करने के लिए, आपको किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से किसी भी विषय में स्नातक की डिग्री होना आवश्यक है.
  • परीक्षा का स्वरूप– UPSC परीक्षा तीन चरणों में आयोजित की जाती है
    1. प्रारंभिक परीक्षा- यह एक वस्तुनिष्ठ, बहुविकल्पीय परीक्षा है जो उम्मीदवारों की सामान्य योग्यता और ज्ञान का आकलन करती है.
    2. मुख्य परीक्षा– यह एक व्यक्तिपरक परीक्षा है जिसमें नौ पेपर शामिल हैं, जो विभिन्न विषयों जैसे राजनीति विज्ञान, इतिहास, अर्थशास्त्र, समाजशास्त्र, भूगोल, विज्ञान और प्रौद्योगिकी, और वैकल्पिक विषयों को कवर करते हैं.
    3. साक्षात्कार– केवल मुख्य परीक्षा में उत्तीर्ण होने वाले उम्मीदवारों को ही साक्षात्कार के लिए बुलाया जाता है. यह व्यक्तित्व, बुद्धिमत्ता, और नेतृत्व कौशल का आकलन करने के लिए होता है.

कलेक्टर बनने के लिए कुछ उपयोगी संसाधन

  • सिविल सेवा परीक्षा की आधिकारिक वेबसाइट- https://upsc.gov.in/
  • एनसीईआरटी पुस्तकेंhttps://ncert.nic.in/textbook.php
  • मुख्य समाचार पत्र और पत्रिकाएँ
  • UPSC तैयारी के लिए अध्ययन सामग्री और कोचिंग क्लासेस
  • पिछले वर्षों के प्रश्नपत्र और मॉडल पेपर

सफलता की कुंजी

  • कठोर परिश्रम और समर्पण– UPSC परीक्षा में सफलता प्राप्त करने के लिए कड़ी मेहनत और लगातार अध्ययन आवश्यक है.
  • समय प्रबंधन– समय का कुशलतापूर्वक प्रबंधन करना और परीक्षा की तैयारी के लिए एक रणनीति बनाना महत्वपूर्ण है.
  • सकारात्मक दृष्टिकोण- परीक्षा की तैयारी के दौरान प्रेरित और सकारात्मक रहना महत्वपूर्ण है.

बीएससी एग्रीकल्चर एडमिशन 2024 – 25 | B.Sc Agriculture Admission in Hindi

भारतीय विश्वविद्यालयों में कलेक्टर कार्यक्रमों के लिए आवेदन प्रक्रिया

भारतीय विश्वविद्यालयों में प्रवेश के लिए, आपको विश्वविद्यालय द्वारा निर्धारित प्रक्रिया का पालन करना होगा.

आम तौर पर, प्रवेश प्रक्रिया इस प्रकार होती है

  • 1. विश्वविद्यालय का चुनाव– सबसे पहले, आपको अपनी रुचि और योग्यता के अनुसार एक या अधिक विश्वविद्यालयों का चयन करना होगा. 2. आवेदन पत्र– प्रत्येक विश्वविद्यालय की अपनी वेबसाइट होती है जहाँ से आप ऑनलाइन आवेदन पत्र डाउनलोड कर सकते हैं.
  • 3. पात्रता मानदंड– आवेदन पत्र भरने से पहले, आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि आप विश्वविद्यालय द्वारा निर्धारित पात्रता मानदंड को पूरा करते हैं. इसमें शैक्षणिक योग्यता, आयु सीमा, और अन्य आवश्यकताओं शामिल हो सकती हैं.
  • 4. आवश्यक दस्तावेज -आपको आवेदन पत्र के साथ आवश्यक दस्तावेजों की प्रतियां जमा करनी होंगी, जैसे कि स्नातक डिग्री प्रमाणपत्र, अंकपत्र, आधार कार्ड, और अन्य प्रासंगिक दस्तावेज.
  • 5. प्रवेश शुल्क– आपको निर्धारित प्रवेश शुल्क का भुगतान करना होगा.
  • 6. प्रवेश परीक्षा– कुछ विश्वविद्यालय प्रवेश के लिए प्रवेश परीक्षा आयोजित करते हैं. आपको इस परीक्षा में उत्तीर्ण होना होगा.
  • 7. मेरिट लिस्ट– प्रवेश परीक्षा के परिणामों के आधार पर, विश्वविद्यालय मेरिट लिस्ट जारी करेगा.
  • 8. सीट आवंटन– यदि आप मेरिट लिस्ट में शामिल होते हैं, तो आपको विश्वविद्यालय द्वारा सीट आवंटित की जाएगी.
  • 9. दस्तावेजों का सत्यापन– आपको विश्वविद्यालय में अपनी उपस्थिति दर्ज करानी होगी और अपने दस्तावेजों का सत्यापन कराना होगा.
  • 10. फीस जमा करना– आपको निर्धारित फीस का भुगतान करना होगा.

कलेक्टर बनने के लिए एग्जाम – Exams to become a collector

इस कलेक्टर बनने के लिए, आपको सिविल सेवा परीक्षा (UPSC) उत्तीर्ण करनी होगी। यह भारत की सबसे प्रतिष्ठित और कठिन परीक्षाओं में से एक है, जिसमें लाखों उम्मीदवार शामिल होते हैं।

कलेक्टर कैसे बने के बारे में महत्त्पूर्ण बिंदु

परीक्षा का स्वरूप

UPSC परीक्षा तीन चरणों में आयोजित की जाती है

1. कलेक्टर बनने के लिए प्रारंभिक परीक्षाप्रारंभिक परीक्षा

  • यह एक वस्तुनिष्ठ, बहुविकल्पीय परीक्षा है।
  • इसमें दो अनिवार्य पेपर होते हैं- सामान्य अध्ययन पेपर I और सामान्य अध्ययन पेपर II।
  • यह परीक्षा उम्मीदवारों की सामान्य योग्यता, ज्ञान और समझ का आकलन करती है।

2.कलेक्टर बनने के लिए मुख्य परीक्षा मुख्य परीक्षा

  • केवल प्रारंभिक परीक्षा में उत्तीर्ण होने वाले उम्मीदवार ही मुख्य परीक्षा के लिए पात्र होते हैं।
  • यह एक व्यक्तिपरक परीक्षा है जिसमें नौ पेपर होते हैं
    • पेपर I– भारतीय भाषा (हिंदी या अंग्रेजी)
    • पेपर II– दूसरी भारतीय भाषा (हिंदी या अंग्रेजी के अलावा)
    • पेपर III- सामान्य अध्ययन I (भारत का इतिहास और भूगोल)
    • पेपर IV– सामान्य अध्ययन II (राजनीति विज्ञान और शासन)
    • पेपर V– सामान्य अध्ययन III (अर्थव्यवस्था)
    • पेपर VI– सामान्य अध्ययन IV (विज्ञान और प्रौद्योगिकी)
    • पेपर VII- वैकल्पिक विषय (कुल 36 विषयों में से एक)
    • पेपर VIII– निबंध
    • पेपर IX– Ethics, Integrity and Aptitude
  • मुख्य परीक्षा उम्मीदवारों की गहन समझ, विश्लेषणात्मक सोच और लेखन कौशल का आकलन करती है।

3. कलेक्टर बनने के लिए साक्षात्कार

  • केवल मुख्य परीक्षा में उत्तीर्ण होने वाले उम्मीदवारों को ही साक्षात्कार के लिए बुलाया जाता है।
  • यह व्यक्तित्व, बुद्धिमत्ता, नैतिकता, नेतृत्व कौशल और संचार कौशल का आकलन करने के लिए होता है।

सफलता की कुंजी

  • कठोर परिश्रम और समर्पण– UPSC परीक्षा में सफलता प्राप्त करने के लिए कड़ी मेहनत और लगातार अध्ययन आवश्यक है।
  • समय प्रबंधन– समय का कुशलतापूर्वक प्रबंधन करना और परीक्षा की तैयारी के लिए एक रणनीति बनाना महत्वपूर्ण है।
  • सकारात्मक दृष्टिकोण– परीक्षा की तैयारी के दौरान प्रेरित और सकारात्मक रहना महत्वपूर्ण है।

गवर्नमेंट कॉलेज में एडमिशन कैसे ले | How to take admission in government college in hindi

कलेक्टर कैसे बने आवश्यक दस्तावेज – Documents required to become a collector in Hindi

सिविल सेवा परीक्षा (UPSC) उत्तीर्ण करने वाले उम्मीदवारों को सिविल सेवा प्रशिक्षण अकादमी (लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासन अकादमी) में प्रशिक्षण के लिए निम्नलिखित दस्तावेज जमा करने होते हैं

कलेक्टर कैसे बने के बारे में महत्त्पूर्ण बिंदु

अनिवार्य दस्तावेज

  • यूपीएससी अंतिम परिणाम पत्र– मूल और एक प्रति
  • जन्म प्रमाण पत्र– मूल और एक प्रति
  • 10वीं और 12वीं की अंकपत्र- मूल और एक प्रति
  • स्नातक डिग्री प्रमाण पत्र और अंकपत्र- मूल और एक प्रति
  • जाति प्रमाण पत्र– (यदि लागू हो) मूल और एक प्रति
  • चुनावी आईडी- मूल और एक प्रति
  • पासपोर्ट आकार का फोटो– 6 प्रति
  • स्वास्थ्य प्रमाण पत्र– किसी सरकारी डॉक्टर द्वारा जारी

अन्य दस्तावेज

  • रोजगार प्रमाण पत्र– (यदि लागू हो)
  • विलंब शुल्क भुगतान रसीद- (यदि देरी से आवेदन किया गया हो)
  • पंजीकरण शुल्क भुगतान रसीद

दस्तावेजों को जमा करने की प्रक्रिया

  • सभी दस्तावेजों को निर्धारित तारीख तक सिविल सेवा प्रशिक्षण अकादमी में जमा करना होगा.
  • दस्तावेजों के साथ एक उचित ढंग से भरा हुआ आवेदन पत्र भी जमा करना होगा.
  • सभी दस्तावेजों की मूल और प्रतियों का सत्यापन किया जाएगा.
  • अपूर्ण या गलत दस्तावेजों वाले आवेदनों को स्वीकार नहीं किया जाएगा.

कलेक्टर बनने के लिए भाषा आवश्यकताएं – Language requirements to become a collector

कलेक्टर कैसे बने सिविल सेवा परीक्षा (UPSC) में शामिल होने के लिए, उम्मीदवारों को हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में प्रवीणता होनी चाहिए।

हिंदी

  • हिंदी अनिवार्य भाषा है और मुख्य परीक्षा में एक अनिवार्य पेपर के रूप में शामिल है।
  • इस पेपर में 300 अंक होते हैं और इसमें व्याकरण, निबंध लेखन, अनुवाद, और अनदेखा सहित विभिन्न विषयों पर प्रश्न होते हैं।
  • उम्मीदवारों को हिंदी भाषा में लिखने और पढ़ने में सक्षम होना चाहिए।

अंग्रेजी

  • अंग्रेजी वैकल्पिक भाषा है, लेकिन यह UPSC परीक्षा में सफलता के लिए महत्वपूर्ण है।
  • अंग्रेजी में कई महत्वपूर्ण अध्ययन सामग्री और संदर्भ पुस्तकें उपलब्ध हैं।
  • इसके अलावा, साक्षात्कार अंग्रेजी या हिंदी में किसी भी भाषा में आयोजित किया जा सकता है।

अन्य भाषाएं

  • हालांकि हिंदी और अंग्रेजी अनिवार्य हैं, कुछ क्षेत्रीय भाषाओं का ज्ञान भी सहायक हो सकता है, खासकर यदि आप किसी विशेष राज्य या क्षेत्र में काम करना चाहते हैं।

सैनिक स्कूल में एडमिशन कैसे होता है | sainik school admission online application 2024-25 in Hindi

कलेक्टर बनने के लिए आवश्यक पुस्तकें – Books required to become a collector in Hindi

इस कलेक्टर बनने की राह में सफलता प्राप्त करने के लिए सही पुस्तकें आपकी मार्गदर्शक हो सकती हैं.

ias कैसे बने के बारे में महत्त्पूर्ण बिंदु

आपकी तैयारी के लिए कुछ महत्वपूर्ण पुस्तकें इस प्रकार हैं

  • एनसीईआरटी की पुस्तकें (NCERT Books)– ये पुस्तकें बुनियादी अवधारणाओं को समझने के लिए एक मजबूत आधार प्रदान करती हैं. इन्हें यहां से प्राप्त किया जा सकता है.
  • सामान्य अध्ययन (General Studies) की पुस्तकें– राजनीति विज्ञान, इतिहास, अर्थशास्त्र, समाजशास्त्र और विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी जैसे विषयों के लिए मानक संदर्भ पुस्तकें चुनें.
  • पिछले वर्षों के प्रश्नपत्र (Previous Years’ Papers)– UPSC परीक्षा के पैटर्न और पूछे जाने वाले प्रश्नों को समझने के लिए पिछले वर्षों के प्रश्नपत्रों का अभ्यास करें. ये UPSC की वेबसाइट से डाउनलोड किए जा सकते हैं.
  • वैकल्पिक विषय की पुस्तकें (Optional Subject Books)– अपने चुने हुए वैकल्पिक विषय के लिए विशेषज्ञों द्वारा लिखी गई पुस्तकें चुनें.

कलेक्टर बनने के लिए अप्लाई कैसे करे – How to apply to become a collector in Hindi

कलेक्टर कैसे बने कलेक्टर बनने का सपना पूरा करने के लिए, आपको कठिन परिश्रम और सही रणनीति के साथ सिविल सेवा परीक्षा (UPSC) उत्तीर्ण करनी होगी.

आवेदन प्रक्रिया

  • UPSC वेबसाइट पर पंजीकरण– सबसे पहले, आपको संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) की आधिकारिक वेबसाइट यूपीएससी पर जाकर ऑनलाइन आवेदन करना होगा. परीक्षा अधिसूचना जारी होने के बाद ही आवेदन पोर्टल खुलता है.
  • आवेदन फॉर्म भरना– ऑनलाइन आवेदन फॉर्म में व्यक्तिगत जानकारी, शैक्षणिक योग्यता, और परीक्षा केंद्र व सेवा वरीयता जैसी जानकारियां भरनी होती हैं.
  • आवश्यक दस्तावेज जमा करना– आवेदन शुल्क के भुगतान के साथ निर्धारित दस्तावेज जमा करने होते हैं, जैसे जन्म प्रमाण पत्र, शैक्षणिक प्रमाण पत्र आदि.
  • परीक्षा तिथियों की जांच– आवेदन करते समय, आपको लिखित परीक्षा और साक्षात्कार की संभावित तिथियों का भी ध्यान रखना चाहिए.

12वीं के बाद वकील कैसे बने | How to become a lawyer after 12th in hindi

कलेक्टर कैसे बने – कलेक्टर बनने के लिए ट्रेनिंग – Training to become a collector

कलेक्टर बनना लाखों युवाओं का सपना होता है। सिविल सेवा परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद, कठोर प्रशिक्षण इस सपने को हकीकत में बदलता है।
लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासन अकादमी (लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासन अकादमी), मसूरी में 11 महीने का मूल प्रशिक्षण कलेक्टर बनने की नींव रखता है। कक्षाएं, व्यावहारिक अभ्यास, क्षेत्र भ्रमण और अध्ययन दौरे युवाओं को भारतीय संविधान, लोक प्रशासन, वित्त, अर्थशास्त्र, विकास, कानून और पुलिस जैसे विषयों में पारंगत करते हैं। संचार, नेतृत्व और समस्या-समाधान कौशल विकसित करना भी इस प्रशिक्षण का महत्वपूर्ण हिस्सा है।
प्रभार प्रशिक्षण युवा IAS अधिकारियों को राज्य सरकार के कामकाज और जिला प्रशासन की बारीकियों से अवगत कराता है।
निरंतर शिक्षा कार्यक्रम कलेक्टरों को अपडेट रहने और नए कौशल सीखने में मदद करते हैं।
यह कठोर प्रशिक्षण कलेक्टरों को देश के विकास और नागरिकों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए तैयार करता है।

कलेक्टर की सैलरी – Salary of a Collector in Hindi

कलेक्टर बनने का एक आकर्षक पहलू निश्चित रूप से उसका वेतन है।

इस कलेक्टर कैसे बने एक कलेक्टर के रूप में, आप भारत सरकार के वेतनमान के अनुसार वेतन प्राप्त करते हैं। आमतौर पर, शुरुआती वेतन लगभग ₹56,100 प्रति माह होता है, जो कि सातवें वेतन आयोग के अनुसार है।

हालांकि, यह सिर्फ बुनियादी वेतन है। इसके अतिरिक्त, कलेक्टरों को कई भत्ते भी मिलते हैं, जैसे कि मंहगाई भत्ता (डीए), मकान किराया भत्ता (एचआरए), यात्रा भत्ता (टीए), और चिकित्सा भत्ता। इन भत्तों को मिलाकर, एक कलेक्टर का कुल वेतन काफी अधिक हो सकता है, जो उनके कार्य अनुभव और तैनाती स्थान के आधार पर ₹1.7 लाख प्रति माह तक पहुँच सकता है।

12वीं के बाद कॉलेज में एडमिशन कैसे लें | How to take admission in college after 12th in Hindi

निष्कर्ष – Conclusion

कलेक्टर बनना निश्चित रूप से एक कठिन लक्ष्य है, लेकिन यह असंभव नहीं है। जैसा कि हमने चर्चा की है, सफलता प्राप्त करने के लिए ठोस रणनीति, कड़ी मेहनत और समर्पण की आवश्यकता होती है। UPSC परीक्षा को क्रैक करना कठिन है, लेकिन सही मार्गदर्शन और दृढ़ निश्चय के साथ, आप इस लक्ष्य को प्राप्त कर सकते हैं। याद रखें, कलेक्टर बनने के लिए किसी विशिष्ट शैक्षणिक पृष्ठभूमि की आवश्यकता नहीं है। जुनून, दृढ़ता और सकारात्मक दृष्टिकोण के साथ, आप इस यात्रा को सफलतापूर्वक पूरा कर सकते हैं और एक सफल प्रशासक के रूप में राष्ट्र की सेवा कर सकते हैं। शुभकामनाएं!

Top 10] नोएडा में भूतीया जगह | Haunted place in Noida in hindi

कलेक्टर कैसे बनें के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले सवाल (FAQ)

Q. कलेक्टर बनने में कितना समय लगता है?

Ans. कलेक्टर बनने में लगने वाला समय कई कारकों पर निर्भर करता है, जैसे कि आपकी तैयारी का स्तर, आपके द्वारा दी गई परीक्षाओं की संख्या, और आपकी सफलता का स्तर।शिक्षा स्नातक की डिग्री प्राप्त करने में 3-4 साल लगते हैं।
UPSC परीक्षा की तैयारी UPSC परीक्षा की तैयारी में 1-2 साल या उससे अधिक समय लग सकता है।UPSC परीक्षा UPSC परीक्षा में तीन चरण होते हैं – प्रारंभिक, मुख्य और साक्षात्कार। यदि आप सभी चरणों को एक बार में उत्तीर्ण करते हैं, तो परीक्षा पूरी करने में लगभग 1 साल लग सकता है।
प्रशिक्षण सफल उम्मीदवारों को सिविल सेवा प्रशिक्षण अकादमी में 1 साल का प्रशिक्षण दिया जाता है।

Q. कलेक्टर बनने के लिए क्या पढ़ाई करनी चाहिए?

Ans. कलेक्टर बनने के लिए किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक होना आवश्यक है।
कोई भी विषय चुन सकते हैं, जैसे कला, विज्ञान, वाणिज्य, इंजीनियरिंग, कृषि, कानून, आदि।

Q. कलेक्टर बनने के बाद कितनी सैलरी मिलती है

Ans. वेतन 7वें वेतन आयोग के अनुसार पे मैट्रिक्स के लेवल 10 में आता है।
मूल वेतन ₹ 50,950 से ₹ 1,82,500 प्रति माह तक होता है।
अनुभव और पदोन्नति के साथ वेतन बढ़ता जाता है।

Q. कलेक्टर से ऊंचा पद कौन सा होता है?

Ans. कलेक्टर अपने जिले के प्रमुख होते हैं, संभागीय आयुक्त कई जिलों वाले संभाग के प्रमुख होते हैं।
वे कानून व्यवस्था, विकास कार्यों और राजस्व वसूली जैसे मामलों में कलेक्टरों का पर्यवेक्षण करते हैं।

12वीं के बाद कॉलेज में एडमिशन कैसे लें | How to take admission in college after 12th in Hindi

Leave a Comment