सरकारी मेडिकल कॉलेज में एडमिशन कैसे ले | How to get admission in government medical college in Hindi

Photo of author

By Dharmendra Kumar

5/5 - (2 votes)

डॉक्टर बनने का सपना देख रहे हैं? सरकारी मेडिकल कॉलेज में एडमिशन आपके सपने को हकीकत में बदल सकता है। सरकारी मेडिकल कॉलेज ना सिर्फ़ कम खर्चे में बेहतरीन शिक्षा प्रदान करते हैं, बल्कि इनमें प्रवेश पाना भी प्रतिष्ठा की बात मानी जाती है। यह लेख आपको सरकारी मेडिकल कॉलेज में एडमिशन से जुड़ी सभी महत्वपूर्ण जानकारी देगा, जिसमें पात्रता मानदंड, प्रवेश परीक्षा, आवेदन प्रक्रिया, मेरिट लिस्ट, और काउंसलिंग शामिल हैं। इस लेख के माध्यम से, हम आपको यह भी बताएंगे कि आप अपनी तैयारी कैसे बेहतर बना सकते हैं और सरकारी मेडिकल कॉलेज में प्रवेश पाने की अपनी संभावनाओं को कैसे बढ़ा सकते हैं।

तो आइए, शुरू करते हैं इस रोमांचक सफर को और डॉक्टर बनने के अपने सपने को पंख लगाते हैं!

Table of Contents

सरकारी मेडिकल कॉलेज में एडमिशन कैसे ले 2024

सरकारी मेडिकल कॉलेज में एडमिशन कैसे ले
How to apply for MBBS admission in a government college

सरकारी मेडिकल कॉलेज में एडमिशन पाना लाखों मेडिकल छात्रों का सपना होता है। यह सपना मेहनत और लगन से जरूर पूरा हो सकता है।

यहाँ सरकारी मेडिकल कॉलेज में प्रवेश पाने की प्रक्रिया का संक्षिप्त विवरण दिया गया है:

1. 10+2 में विज्ञान विषय चुनें: सबसे पहले, आपको 10+2 में विज्ञान विषय (फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी) के साथ अच्छे अंक प्राप्त करने होंगे।

2. NEET परीक्षा उत्तीर्ण करें: नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट (NEET) सरकारी मेडिकल कॉलेजों में प्रवेश के लिए अनिवार्य परीक्षा है।

3. आवेदन करें: NEET स्कोर के आधार पर, आप विभिन्न सरकारी मेडिकल कॉलेजों में आवेदन कर सकते हैं। आवेदन प्रक्रिया ऑनलाइन होती है, और आपको आवश्यक दस्तावेजों को अपलोड करना होगा।

4. मेरिट लिस्ट: NEET स्कोर के आधार पर, एक मेरिट लिस्ट तैयार की जाएगी।

5. काउंसलिंग: मेरिट लिस्ट के अनुसार, आपको काउंसलिंग के लिए बुलाया जाएगा। काउंसलिंग में, आपको अपनी पसंद के कॉलेजों का चुनाव करना होगा।

6. दस्तावेजों का सत्यापन: आपको आवंटित कॉलेज में, आपको अपने दस्तावेजों का सत्यापन कराना होगा।

7. फीस जमा करें: सफल सत्यापन के बाद, आपको निर्धारित शुल्क जमा करना होगा।

12वीं के बाद 6 महीने का कोर्स | Best 6 months course after 12th in Hindi

मेडिकल कॉलेज में क्या होता है – What happens in medical college in Hindi

सरकारी मेडिकल कॉलेज में एडमिशन मिलने का मतलब है डॉक्टर बनने की दिशा में पहला कदम उठाना। इन कॉलेजों में आपको चिकित्सा विज्ञान का गहन अध्ययन करने का अवसर मिलता है, जिसमें शरीर रचना विज्ञान, शरीर क्रिया विज्ञान, जैव रसायन, रोग विज्ञान, औषध विज्ञान, और शल्य चिकित्सा जैसे विषय शामिल हैं।

सिद्धांतों के साथ-साथ, आपको व्यावहारिक प्रशिक्षण भी दिया जाता है, जिसमें लैब में प्रयोग करना, मरीजों की जांच करना, और उन्हें दवा देना शामिल है। इंटर्नशिप के दौरान आपको डॉक्टरों के साथ काम करने का मौका मिलता है, जिससे आपको वास्तविक दुनिया का अनुभव प्राप्त होता है।

सरकारी मेडिकल कॉलेज में एडमिशन – एमबीबीएस कोर्स की हाइलाइट्स

एमबीबीएस कोर्स की हाइलाइट्स
How to get admission in MBBS in Government College – NEET Counselling Registration

जैसा कि हमने पहले बताया सरकारी मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस कोर्स करने के कई फायदे हैं, जिनमें से कुछ प्रमुख हाइलाइट्स इस प्रकार हैं:

सरकारी मेडिकल कॉलेज में एडमिशन के बारे में महत्वपूर्ण बिंदु

  • कम खर्च: सरकारी मेडिकल कॉलेजों में प्राइवेट कॉलेजों की तुलना में फीस बहुत कम होती है।
  • गुणवत्तापूर्ण शिक्षा: सरकारी मेडिकल कॉलेजों में अनुभवी और योग्य डॉक्टरों द्वारा शिक्षा दी जाती है।
  • बेहतर सुविधाएं: सरकारी मेडिकल कॉलेजों में अत्याधुनिक प्रयोगशालाएं, अस्पताल और लाइब्रेरी जैसी बेहतरीन सुविधाएं उपलब्ध होती हैं।
  • अच्छी नौकरी की संभावनाएं: एमबीबीएस करने के बाद आपको सरकारी और प्राइवेट दोनों क्षेत्रों में अच्छी नौकरी मिलने की संभावनाएं होती हैं।
  • सामाजिक सेवा का अवसर: एमबीबीएस डॉक्टर बनकर आप जरूरतमंद लोगों की सेवा कर सकते हैं और समाज में योगदान दे सकते हैं।

एमबीबीएस कोर्स के बारे में:

एमबीबीएस कोर्स 5.5 साल का होता है, जिसमें पहले 3 साल प्री-क्लिनिकल और बाकी 2.5 साल क्लिनिकल स्टडी शामिल होती है। प्री-क्लिनिकल स्टडी में एनाटॉमी, फिजियोलॉजी, बायोकेमिस्ट्री, और फार्माकोलॉजी जैसे विषय पढ़ाए जाते हैं। क्लिनिकल स्टडी में मेडिसिन, सर्जरी, गायनीकोलॉजी, और पीडियाट्रिक्स जैसे विषयों की शिक्षा दी जाती है।

सरकारी मेडिकल कॉलेज में एडमिशन पाने के लिए आपको NEET (National Eligibility cum Entrance Test) नामक प्रवेश परीक्षा उत्तीर्ण करनी होगी। यह परीक्षा हर साल आयोजित की जाती है।

एमबीबीएस प्रवेश के लिए पात्रता मानदंड – Basic eligibility criteria for MBBS admissions in Hindi

सरकारी मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस कोर्स में एडमिशन पाने के लिए, उम्मीदवारों को कुछ न्यूनतम पात्रता मानदंडों को पूरा करना होता है।

शैक्षणिक योग्यता:

  • उम्मीदवार को 12वीं विज्ञान stream में कम से कम 50% अंक प्राप्त होना चाहिए।
  • भौतिकी, रसायन विज्ञान, और जीव विज्ञान में 12वीं में अंग्रेजी के साथ उत्तीर्ण होना अनिवार्य है।
  • कुछ राज्यों में, 12वीं में PCB विषयों में न्यूनतम 60% अंक प्राप्त करने की आवश्यकता होती है।

आयु सीमा:

  • एमबीबीएस प्रवेश के लिए न्यूनतम आयु 17 वर्ष होनी चाहिए।
  • अधिकतम आयु 25 वर्ष तक हो सकती है (कुछ राज्यों में 30 वर्ष)।

अन्य पात्रता मानदंड:

  • भारतीय नागरिक होना अनिवार्य है।
  • मानसिक और शारीरिक रूप से स्वस्थ होना चाहिए।
  • किसी भी सरकारी मेडिकल कॉलेज में पहले से एडमिशन नहीं होना चाहिए।

नीचे दी गई सारणी में एमबीबीएस प्रवेश के लिए पात्रता मानदंडों का सार दिया गया है:

योग्यताविवरण
शैक्षणिक योग्यता12वीं विज्ञान stream में 50% अंक (कुछ राज्यों में 60% PCB)
आयु सीमा17-25 वर्ष (कुछ राज्यों में 30 वर्ष)
नागरिकताभारतीय नागरिक
शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्यस्वस्थ
पिछला एडमिशनकिसी भी सरकारी मेडिकल कॉलेज में एडमिशन नहीं होना चाहिए
How to apply for MBBS admission in a government college

होटल मैनेजमेंट कोर्स 12वीं के बाद | hotel management courses after 12th in hindi

एमबीबीएस प्रवेश प्रक्रिया – MBBS Admission Process in Hindi

एमबीबीएस प्रवेश प्रक्रिया
Eligibility Criteria for Admission in Govt. Medical College of UP for MBBS

जैसा कि हमने पहले बताया सरकारी मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस कोर्स में एडमिशन पाने के लिए, उम्मीदवारों को एक केंद्रीकृत प्रवेश प्रक्रिया से गुजरना होता है, जिसे राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग (NMC) द्वारा आयोजित किया जाता है।

सरकारी मेडिकल कॉलेज में एडमिशन के बारे में महत्वपूर्ण बिंदु

एमबीबीएस प्रवेश प्रक्रिया के मुख्य चरण इस प्रकार हैं:

1. नीट (NEET) परीक्षा:

  • एमबीबीएस प्रवेश के लिए पहला और सबसे महत्वपूर्ण चरण NEET (National Eligibility cum Entrance Test) परीक्षा उत्तीर्ण करना है।
  • यह परीक्षा हर साल NMC द्वारा आयोजित की जाती है।
  • परीक्षा में भौतिकी, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान, और अंग्रेजी विषयों से प्रश्न पूछे जाते हैं।

2. नीट रिजल्ट:

  • NEET परीक्षा के बाद, NMC आधिकारिक वेबसाइट पर रिजल्ट जारी करता है।
  • उम्मीदवारों को अपनी रैंक और मेरिट स्कोर की जांच करनी चाहिए।

3. ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन:

  • NEET रिजल्ट जारी होने के बाद, उम्मीदवारों को MCC (Medical Counselling Committee) की वेबसाइट पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करना होगा।
  • रजिस्ट्रेशन के दौरान, उम्मीदवारों को अपनी पसंद के मेडिकल कॉलेजों का विकल्प चुनना होगा।

4. काउंसलिंग:

  • MCC द्वारा कई राउंड काउंसलिंग आयोजित की जाती है।
  • काउंसलिंग में, उम्मीदवारों को उनकी रैंक, मेरिट स्कोर, और चुने गए कॉलेजों की उपलब्ध सीटों के आधार पर सीट आवंटित की जाती है।

5. सीट स्वीकृति और दस्तावेज सत्यापन:

  • सीट आवंटित होने के बाद, उम्मीदवारों को आवंटित मेडिकल कॉलेज में जाना होगा और अपनी सीट स्वीकार करनी होगी।
  • उन्हें अपने सभी शैक्षणिक और अन्य दस्तावेजों का सत्यापन भी करवाना होगा।

6. फीस भुगतान और मेडिकल कॉलेज में प्रवेश:

  • दस्तावेज सत्यापन के बाद, उम्मीदवारों को निर्धारित शुल्क का भुगतान करना होगा और मेडिकल कॉलेज में प्रवेश लेना होगा।

नीट के माध्यम से एमबीबीएस कोर्स आवेदन प्रक्रिया – MBBS Course Application Process through NEET in Hindi

अब बात करते हैं नीट (नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट) भारत में एमबीबीएस और अन्य मेडिकल कोर्सेस में एडमिशन के लिए अनिवार्य प्रवेश परीक्षा है।

नीट के माध्यम से एमबीबीएस कोर्स आवेदन प्रक्रिया इस प्रकार है:

1. नीट रजिस्ट्रेशन:

  • सबसे पहले, उम्मीदवारों को आधिकारिक नीट वेबसाइट https://exams.nta.ac.in/NEET/ पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करना होगा।
  • रजिस्ट्रेशन के लिए, उम्मीदवारों को अपनी व्यक्तिगत जानकारी, शैक्षणिक योग्यता, और संपर्क विवरण प्रदान करना होगा।

2. नीट परीक्षा:

  • रजिस्ट्रेशन के बाद, उम्मीदवारों को निर्धारित तिथि और समय पर नीट परीक्षा देनी होगी।
  • परीक्षा ऑफलाइन मोड में आयोजित की जाती है।

3. नीट रिजल्ट:

  • परीक्षा के बाद, NMC आधिकारिक वेबसाइट पर नीट रिजल्ट जारी करता है।
  • उम्मीदवारों को अपनी रैंक और मेरिट स्कोर की जांच करनी चाहिए।

4. ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन (एमसीसी):

  • नीट रिजल्ट जारी होने के बाद, उम्मीदवारों को MCC (Medical Counselling Committee) की वेबसाइट https://mcc.nic.in/ पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करना होगा।
  • रजिस्ट्रेशन के दौरान, उम्मीदवारों को अपनी पसंद के मेडिकल कॉलेजों का विकल्प चुनना होगा।

5. काउंसलिंग:

  • MCC द्वारा कई राउंड काउंसलिंग आयोजित की जाती है।
  • काउंसलिंग में, उम्मीदवारों को उनकी रैंक, मेरिट स्कोर, और चुने गए कॉलेजों की उपलब्ध सीटों के आधार पर सीट आवंटित की जाती है।

6. सीट स्वीकृति और दस्तावेज सत्यापन:

  • सीट आवंटित होने के बाद, उम्मीदवारों को आवंटित मेडिकल कॉलेज में जाना होगा और अपनी सीट स्वीकार करनी होगी।
  • उन्हें अपने सभी शैक्षणिक और अन्य दस्तावेजों का सत्यापन भी करवाना होगा।

7. फीस भुगतान और मेडिकल कॉलेज में प्रवेश:

  • दस्तावेज सत्यापन के बाद, उम्मीदवारों को निर्धारित शुल्क का भुगतान करना होगा और मेडिकल कॉलेज में प्रवेश लेना होगा।

उत्पाद विकास रणनीति कैसे बनाएं 2024 | Best product development strategy in Hindi

एमबीबीएस कोर्स सेमेस्टर -वाइज सिलेबस – MBBS Course Semester-Wise Syllabus in Hindi

सेमेस्टर
(भारत में एमबीबीएस में एडमिशन)
विषय
प्रथम सेमेस्टरमानव शरीर रचना विज्ञान (एनाटॉमी) प्रथम खंड
ऊतक विज्ञान (हिस्टोलॉजी)
द्वितीय सेमेस्टरमानव शरीर रचना विज्ञान (एनाटॉमी) द्वितीय खंड
शरीर क्रिया विज्ञान (फिजियोलॉजी) प्रथम खंड
जैव रसायन विज्ञान (बायोकेमिस्ट्री)
तृतीय सेमेस्टरशरीर क्रिया विज्ञान (फिजियोलॉजी) द्वितीय खंड
सामुदायिक औषध विज्ञान (कम्युनिटी मेडिसिन) प्रथम खंड
औषध विज्ञान (फार्माकोलॉजी) प्रथम खंड
चतुर्थ सेमेस्टररोग विज्ञान (पैथोलॉजी) प्रथम खंड
सूक्ष्म जीव विज्ञान (माइक्रोबायोलॉजी)
फॉरेंसिक औषध विज्ञान (फॉरेंसिक मेडिसिन)
सामुदायिक औषध विज्ञान (कम्युनिटी मेडिसिन) द्वितीय खंड
पंचम सेमेस्टररोग विज्ञान (पैथोलॉजी) द्वितीय खंड
औषध विज्ञान (फार्माकोलॉजी) द्वितीय खंड
क्लिनिकल पोस्टिंग शुरुआत (अस्पताल में व्यावहारिक अनुभव)
षष्ठ सेमेस्टरऔषध विज्ञान (फार्माकोलॉजी) तृतीय खंड
मेडिसिन प्रथम खंड
सर्जरी प्रथम खंड
प्रसूति एवं स्त्री रोग विज्ञान (ऑब्स्टेट्रिक्स एंड गायनेकोलॉजी) प्रथम खंड
बाल रोग विज्ञान (पीडियाट्रिक्स) प्रथम खंड
सप्तम सेमेस्टरमेडिसिन द्वितीय खंड
सर्जरी द्वितीय खंड
प्रसूति एवं स्त्री रोग विज्ञान (ऑब्स्टेट्रिक्स एंड गायनेकोलॉजी) द्वितीय खंड
बाल रोग विज्ञान (पीडियाट्रिक्स) द्वितीय खंड
अष्टम सेमेस्टरमेडिसिन तृतीय खंड
सर्जरी तृतीय खंड
प्रसूति एवं स्त्री रोग विज्ञान (ऑब्स्टेट्रिक्स एंड गायनेकोलॉजी) तृतीय खंड
बाल रोग विज्ञान (पीडियाट्रिक्स) तृतीय खंड
नवम सेमेस्टरवैकल्पिक विषय
अनिवार्य रोटेशनल इंटर्नशिप (अस्पताल में व्यावहारिक अनुभव)
MBBS Course Semester-Wise Syllabus in Hindi

Top 10] अमेरिका के सर्वश्रेष्ठ बिजनेस स्कूल | Best Business Schools in USA in Hindi

बिना नीट के सरकारी मेडिकल कॉलेज में एडमिशन – Admission in government medical college without neet in Hindi

बिना नीट के सरकारी मेडिकल कॉलेज में एडमिशन
NEET MBBS Selection Process

जी हाँ, कुछ विशेष परिस्थितियों में, आप बिना NEET के भी सरकारी मेडिकल कॉलेज में एडमिशन प्राप्त कर सकते हैं।

सरकारी मेडिकल कॉलेज में एडमिशन के बारे में महत्वपूर्ण बिंदु

नीट के बिना सरकारी मेडिकल कॉलेज में एडमिशन के कुछ तरीके इस प्रकार हैं:

  • AIIMS और JIPMER: अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) और जवाहरलाल नेहरू चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान (JIPMER) अपनी प्रवेश परीक्षा आयोजित करते हैं, NEET नहीं।
  • राज्य-विशिष्ट परीक्षाएं: कुछ राज्यों में अपनी मेडिकल कॉलेजों के लिए NEET के अलावा अपनी राज्य-विशिष्ट प्रवेश परीक्षाएं भी होती हैं।
  • रक्षा मेडिकल कॉलेज: यदि आप भारतीय सेना या वायुसेना में शामिल होना चाहते हैं, तो आप बिना NEET के रक्षा मेडिकल कॉलेज में प्रवेश के लिए आवेदन कर सकते हैं।
  • एनआरआई कोटा: कुछ सरकारी मेडिकल कॉलेजों में NRI (गैर-निवासी भारतीय) छात्रों के लिए आरक्षित सीटें होती हैं।
  • विदेशी मेडिकल कॉलेज: आप विदेश में स्थित किसी मान्यता प्राप्त मेडिकल कॉलेज में एडमिशन ले सकते हैं और फिर भारत में वापस आकर अपनी योग्यता का मूल्यांकन करवा सकते हैं।

सरकारी कॉलेज में MBBS में प्रवेश 15% अखिल भारतीय कोटा के अंतर्गत

भारत सरकार द्वारा सरकारी मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस सीटों के 15% हिस्से को अखिल भारतीय कोटा (AIQ) के लिए आरक्षित किया जाता है। इसका मतलब है कि देश भर के मेधावी छात्र इन सीटों के लिए आवेदन कर सकते हैं, चाहे वे किसी भी राज्य के निवासी हों।

  • अखिल भारतीय कोटा के तहत एमबीबीएस में प्रवेश के लिए पात्रता:
  • उम्मीदवार को 12वीं विज्ञान stream में कम से कम 50% अंक प्राप्त होना चाहिए।
  • कुछ राज्यों में, 12वीं में PCB विषयों में न्यूनतम 60% अंक प्राप्त करने की आवश्यकता होती है।
  • उम्मीदवार की आयु 17 वर्ष से 25 वर्ष (कुछ राज्यों में 30 वर्ष) के बीच होनी चाहिए।
  • उम्मीदवार को NEET (National Eligibility cum Entrance Test) परीक्षा उत्तीर्ण करनी होगी।

अखिल भारतीय कोटा के तहत एमबीबीएस में प्रवेश प्रक्रिया:

  • उम्मीदवारों को NEET परीक्षा के लिए आवेदन करना होगा और परीक्षा उत्तीर्ण करनी होगी।
  • NEET रिजल्ट जारी होने के बाद, उम्मीदवारों को MCC (Medical Counselling Committee) की वेबसाइट पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करना होगा।
  • रजिस्ट्रेशन के दौरान, उम्मीदवारों को अपनी पसंद के मेडिकल कॉलेजों का विकल्प चुनना होगा।
  • MCC द्वारा कई राउंड काउंसलिंग आयोजित की जाती है।
  • काउंसलिंग में, उम्मीदवारों को उनकी रैंक, मेरिट स्कोर, और चुने गए कॉलेजों की उपलब्ध सीटों के आधार पर सीट आवंटित की जाती है।
  • सीट आवंटित होने के बाद, उम्मीदवारों को आवंटित मेडिकल कॉलेज में जाना होगा और अपनी सीट स्वीकार करनी होगी।
  • उन्हें अपने सभी शैक्षणिक और अन्य दस्तावेजों का सत्यापन भी करवाना होगा।
  • दस्तावेज सत्यापन के बाद, उम्मीदवारों को निर्धारित शुल्क का भुगतान करना होगा और मेडिकल कॉलेज में प्रवेश लेना होगा।

अखिल भारतीय कोटा के तहत एमबीबीएस में प्रवेश के लाभ:

  • देश भर के मेडिकल कॉलेजों में प्रवेश का अवसर।
  • प्रतिस्पर्धा अपेक्षाकृत कम हो सकती है।
  • मेरिट आधारित प्रवेश प्रणाली।

लीन सिद्धांत क्या है | what is lean theory in hindi

सरकारी कॉलेज में MBBS में प्रवेश 85% राज्य कोटा के अंतर्गत

भारत में सरकारी मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस प्रवेश के लिए, 85% सीटें राज्य कोटा के अधीन आती हैं। इसका मतलब है कि इन सीटों पर प्रवेश केवल उस राज्य के छात्रों के लिए उपलब्ध है, जहाँ मेडिकल कॉलेज स्थित है।

राज्य कोटा के तहत एमबीबीएस प्रवेश के लिए पात्रता मानदंड:

  • उम्मीदवार को उस राज्य का स्थायी निवासी होना चाहिए जहाँ वह प्रवेश चाहता है।
  • उम्मीदवार को 12वीं विज्ञान stream में कम से कम 50% अंक प्राप्त होना चाहिए।
  • कुछ राज्यों में, 12वीं में PCB विषयों में न्यूनतम 60% अंक प्राप्त करने की आवश्यकता होती है।
  • उम्मीदवार को NEET (National Eligibility cum Entrance Test) परीक्षा उत्तीर्ण करनी होगी।

राज्य कोटा के तहत एमबीबीएस प्रवेश प्रक्रिया:

  • उम्मीदवारों को NEET परीक्षा के लिए आवेदन करना होगा और उत्तीर्ण होना होगा।
  • NEET रिजल्ट जारी होने के बाद, राज्य द्वारा अपनी मेडिकल कॉलेजों के लिए ऑनलाइन काउंसलिंग आयोजित की जाएगी।
  • काउंसलिंग में, उम्मीदवारों को उनकी रैंक, मेरिट स्कोर, और उनकी पसंद के मेडिकल कॉलेजों के आधार पर सीट आवंटित की जाएगी।
  • सीट आवंटित होने के बाद, उम्मीदवारों को आवंटित मेडिकल कॉलेज में जाना होगा और अपनी सीट स्वीकार करनी होगी।

सरकारी मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस की फीस – MBBS Admission Fee in Government Colleges in Hindi

आगे बढ़ने से पहले सरकारी मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस की फीस निजी मेडिकल कॉलेजों की तुलना में काफी कम होती है। यह मेडिकल शिक्षा को अधिक किफायती बनाता है और गरीब और मध्यम वर्ग के छात्रों के लिए भी इसे सुलभ बनाता है।

सरकारी मेडिकल कॉलेज में एडमिशन के बारे में महत्वपूर्ण बिंदु

जैसा कि हमने देखा सरकारी मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस की फीस विभिन्न कारकों पर निर्भर करती है, जैसे:

  • राज्य: विभिन्न राज्यों में फीस में थोड़ा अंतर होता है।
  • कॉलेज: कुछ प्रतिष्ठित सरकारी मेडिकल कॉलेजों में फीस थोड़ी अधिक हो सकती है।
  • आरक्षण: अनुसूचित जाति (SC), अनुसूचित जनजाति (ST) और अन्य पिछड़ा वर्ग (OBC) के छात्रों को शुल्क में छूट मिल सकती है।

आम तौर पर, सरकारी मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस की वार्षिक फीस ₹5,000 से ₹20,000 तक होती है। कुछ राज्यों में, यह ₹30,000 तक भी हो सकती है।

यहां कुछ सरकारी मेडिकल कॉलेजों की एमबीबीएस फीस का उदाहरण दिया गया है:

कॉलेज का नामराज्यवार्षिक फीस (लगभग)
मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज, दिल्लीदिल्ली₹10,000
गांधी मेडिकल कॉलेज, Bhopalमध्य प्रदेश₹15,000
किंग जॉर्ज मेडिकल कॉलेज, Lucknowउत्तर प्रदेश₹8,000
Seth GS Medical College, Mumbaiमहाराष्ट्र₹20,000
Madras Medical College, Chennaiतमिलनाडु₹5,000
MBBS Admission Fee in Government Colleges in Hindi

2024]भारत के सर्वश्रेष्ठ कॉलेज | best colleges of india in hindi

एमबीबीएस प्राइवेट कॉलेज फीस – MBBS Course Fees in Hindi

सरकारी मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस की तुलना में प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों में फीस बहुत अधिक होती है।

सरकारी मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस की फीस:

  • सरकारी मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस की फीस आमतौर पर प्रति वर्ष ₹5,000 से ₹30,000 तक होती है।
  • कुछ राज्यों में, फीस थोड़ी अधिक हो सकती है, लेकिन यह ₹50,000 प्रति वर्ष से अधिक नहीं होती है।

प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस की फीस:

  • प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस की फीस कॉलेज और उसके स्थान के आधार पर भिन्न होती है।
  • कुछ प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों में फीस प्रति वर्ष ₹1 लाख से शुरू होती है और ₹50 लाख या उससे अधिक तक जा सकती है।

नीचे दी गई सारणी में कुछ प्रसिद्ध प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों और उनकी एमबीबीएस फीस का अनुमान दिया गया है:

कॉलेज का नामशहरफीस (प्रति वर्ष)
मणिपाल इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेजमणिपाल₹20 लाख
क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेजवेल्लोर₹25 लाख
श्रीरामचंद्र मेडिकल कॉलेजचेन्नई₹30 लाख
एमकेसीएच मेडिकल कॉलेजनवी मुंबई₹40 लाख
Kasturba Medical CollegeMangalore₹50 लाख
MBBS Course Fees in Hindi

भारत में टॉप एमबीबीएस कॉलेज और शुल्क सरंचना – Top MBBS Colleges in India and Fee Structure in Hindi

भारत में कई उत्कृष्ट सरकारी और निजी मेडिकल कॉलेज हैं जो एमबीबीएस कोर्स प्रदान करते हैं।

यहां कुछ टॉप सरकारी मेडिकल कॉलेज और उनकी अनुमानित शुल्क संरचना (प्रति वर्ष) दी गई है:

कॉलेज का नामशहरराज्यसरकारी/निजीअनुमानित शुल्क
अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS), दिल्लीदिल्लीदिल्लीसरकारी₹50,000 – ₹1,00,000
जवाहरलाल नेहरू चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान (JIPMER), पुदुचेरीपुदुचेरीपुदुचेरीसरकारी₹50,000 - ₹1,00,000
महाराष्ट्र मेडिकल कॉलेज, नागपुरनागपुरमहाराष्ट्रसरकारी₹10,000 – ₹20,000
किंग जॉर्ज मेडिकल कॉलेज, लखनऊलखनऊउत्तर प्रदेशसरकारी₹10,000 – ₹20,000
ग्रांट मेडिकल कॉलेज, मुंबईमुंबईमहाराष्ट्रसरकारी₹10,000 – ₹20,000
मद्रास मेडिकल कॉलेज, चेन्नईचेन्नईतमिलनाडुसरकारी₹10,000 – ₹20,000
बनारस हिंदू विश्वविद्यालय, वाराणसीवाराणसीउत्तर प्रदेशसरकारी₹10,000 – ₹20,000
पंजाब मेडिकल कॉलेज, अमृतसरअमृतसरपंजाबसरकारी₹10,000 – ₹20,000
केरल मेडिकल कॉलेज, त्रिवेंद्रमत्रिवेंद्रमकेरलसरकारी₹10,000 - ₹20,000
कस्तूरबा मेडिकल कॉलेज, मणिपालमणिपालकर्नाटकनिजी₹5,00,000 – ₹10,00,000
Top MBBS Colleges in India and Fee Structure in Hindi

Top 10] यूरोप के सर्वश्रेष्ठ बिजनेस स्कूल | Best business colleges in Europe in Hindi

मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम – Medical entrance exam in Hindi

भारत में, एमबीबीएस और अन्य मेडिकल कोर्सेस में प्रवेश के लिए कई मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम आयोजित किए जाते हैं। इनमें से सबसे महत्वपूर्ण परीक्षा है नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट (NEET), जिसे राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग (NMC) द्वारा आयोजित किया जाता है।

NEET देश भर के सरकारी मेडिकल कॉलेजों, केंद्र सरकार द्वारा संचालित मेडिकल कॉलेजों और निजी मेडिकल कॉलेजों जिनमें 50% सीटें सरकारी कोटा के लिए आरक्षित हैं, में एडमिशन के लिए अनिवार्य है।

NEET के अलावा, कुछ अन्य महत्वपूर्ण मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम इस प्रकार हैं:

  • AIIMS परीक्षा: अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) अपनी प्रवेश परीक्षा आयोजित करता है, जो NEET से अलग है।
  • JIPMER परीक्षा: जवाहरलाल नेहरू चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान (JIPMER) भी अपनी प्रवेश परीक्षा आयोजित करता है।
  • राज्य-विशिष्ट परीक्षाएं: कुछ राज्यों में अपनी मेडिकल कॉलेजों के लिए NEET के अलावा अपनी राज्य-विशिष्ट प्रवेश परीक्षाएं भी होती हैं।

नीट एमबीबीएस परीक्षा पैटर्न – NEET MBBS Exam Pattern in Hindi

राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (NEET), जिसे एमबीबीएस प्रवेश परीक्षा के रूप में भी जाना जाता है, भारत में मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस और अन्य स्नातक चिकित्सा पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए अनिवार्य प्रवेश परीक्षा है।

नीट एमबीबीएस परीक्षा पैटर्न इस प्रकार है:

परीक्षा का स्वरूप:

  • ऑफलाइन मोड: नीट परीक्षा ऑफलाइन मोड में आयोजित की जाती है, यानी उम्मीदवारों को OMR शीट पर उत्तरों को चिह्नित करना होगा।
  • बहुविकल्पीय प्रश्न (MCQs): परीक्षा में केवल बहुविकल्पीय प्रश्न (MCQs) होते हैं।
  • चार भाषाएं: परीक्षा हिंदी, अंग्रेजी, तमिल और उर्दू भाषाओं में उपलब्ध है।

विषय और प्रश्नों की संख्या:

  • भौतिकी: 40 प्रश्न
  • रसायन विज्ञान: 40 प्रश्न
  • जीव विज्ञान: 40 प्रश्न
  • कुल: 120 प्रश्न

अंकन योजना:

  • प्रत्येक सही उत्तर के लिए 4 अंक: प्रत्येक सही उत्तर के लिए 4 अंक प्रदान किए जाते हैं।
  • कोई नकारात्मक अंकन नहीं: गलत उत्तरों के लिए कोई अंक नहीं काटे जाते हैं।

समय अवधि:

  • परीक्षा की अवधि 3 घंटे (180 मिनट) है।

Top 21] ऑस्ट्रेलिया में सबसे अच्छे मेडिकल कॉलेज | Best medical colleges in australia in Hindi

नीट एमबीबीएस चयन प्रक्रिया – NEET MBBS Selection Process in Hindi

नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट (NEET) भारत में एमबीबीएस और अन्य मेडिकल कोर्सेस में प्रवेश के लिए अनिवार्य प्रवेश परीक्षा है।

नीट एमबीबीएस चयन प्रक्रिया इस प्रकार है:

1. नीट रजिस्ट्रेशन:

  • सबसे पहले, उम्मीदवारों को आधिकारिक नीट वेबसाइट https://www.nta.ac.in/ पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करना होगा।
  • रजिस्ट्रेशन के लिए, उम्मीदवारों को अपनी व्यक्तिगत जानकारी, शैक्षणिक योग्यता, और संपर्क विवरण प्रदान करना होगा।

2. नीट परीक्षा:

  • रजिस्ट्रेशन के बाद, उम्मीदवारों को निर्धारित तिथि और समय पर नीट परीक्षा देनी होगी।
  • परीक्षा ऑफलाइन मोड में आयोजित की जाती है।
  • परीक्षा में भौतिकी, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान, और अंग्रेजी विषयों से प्रश्न पूछे जाते हैं।

3. नीट रिजल्ट:

  • परीक्षा के बाद, NMC आधिकारिक वेबसाइट पर नीट रिजल्ट जारी करता है।
  • उम्मीदवारों को अपनी रैंक और मेरिट स्कोर की जांच करनी चाहिए।

4. ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन (एमसीसी):

  • नीट रिजल्ट जारी होने के बाद, उम्मीदवारों को MCC (Medical Counselling Committee) की वेबसाइट https://mcc.nic.in/ पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करना होगा।
  • रजिस्ट्रेशन के दौरान, उम्मीदवारों को अपनी पसंद के मेडिकल कॉलेजों का विकल्प चुनना होगा।

5. काउंसलिंग:

  • MCC द्वारा कई राउंड काउंसलिंग आयोजित की जाती है।
  • काउंसलिंग में, उम्मीदवारों को उनकी रैंक, मेरिट स्कोर, और चुने गए कॉलेजों की उपलब्ध सीटों के आधार पर सीट आवंटित की जाती है।

6. सीट स्वीकृति और दस्तावेज सत्यापन:

  • सीट आवंटित होने के बाद, उम्मीदवारों को आवंटित मेडिकल कॉलेज में जाना होगा और अपनी सीट स्वीकार करनी होगी।
  • उन्हें अपने सभी शैक्षणिक और अन्य दस्तावेजों का सत्यापन भी करवाना होगा।

7. फीस भुगतान और मेडिकल कॉलेज में प्रवेश:

  • दस्तावेज सत्यापन के बाद, उम्मीदवारों को निर्धारित शुल्क का भुगतान करना होगा और मेडिकल कॉलेज में प्रवेश लेना होगा।

एमबीबीएस डॉक्टर कैसे बने |How to become MBBS doctor in hindi

एमबीबीएस करियर विकल्प – MBBS Career Options in Hindi

सरकारी मेडिकल कॉलेज से एमबीबीएस करना एक प्रतिष्ठित उपलब्धि है जो आपको डॉक्टर बनने का अवसर प्रदान करती है। एमबीबीएस के बाद, आपके पास विभिन्न प्रकार के करियर विकल्पों का चुनाव करने का अवसर होता है।

सरकारी मेडिकल कॉलेज से एमबीबीएस करने के बाद कुछ प्रमुख करियर विकल्प इस प्रकार हैं:

1. डॉक्टर:

  • यह एमबीबीएस के बाद सबसे लोकप्रिय और पारंपरिक करियर विकल्प है।
  • आप सरकारी या निजी अस्पताल, क्लिनिक, या डिस्पेंसरी में डॉक्टर के रूप में काम कर सकते हैं।
  • आप विभिन्न विशेषज्ञताओं जैसे कि सर्जरी, मेडिसिन, स्त्री रोग, बाल रोग, या त्वचा रोग में विशेषज्ञता प्राप्त कर सकते हैं।

2. शिक्षक:

  • आप मेडिकल कॉलेज या स्कूल में एमबीबीएस या अन्य स्वास्थ्य विज्ञान विषयों के शिक्षक बन सकते हैं।
  • यह उन लोगों के लिए एक अच्छा विकल्प है जो शिक्षण में रुचि रखते हैं।

3. शोधकर्ता:

  • आप मेडिकल रिसर्च संस्थानों या विश्वविद्यालयों में शोधकर्ता के रूप में काम कर सकते हैं।
  • आप विभिन्न बीमारियों के इलाज और रोकथाम के लिए नए तरीकों को विकसित करने में योगदान दे सकते हैं।

4. प्रशासक:

  • आप अस्पतालों, स्वास्थ्य विभागों, या स्वास्थ्य बीमा कंपनियों में प्रशासनिक पदों पर काम कर सकते हैं।
  • आप अपनी प्रबंधकीय और नेतृत्व कौशल का उपयोग करके स्वास्थ्य सेवा प्रणाली को बेहतर बनाने में मदद कर सकते हैं।

5. उद्यमी:

  • आप अपना खुद का क्लिनिक, अस्पताल, या स्वास्थ्य सेवा से संबंधित व्यवसाय शुरू कर सकते हैं।
  • यह उन लोगों के लिए एक अच्छा विकल्प है जो स्वतंत्र रूप से काम करना चाहते हैं और अपना खुद का व्यवसाय बनाना चाहते हैं।

एमबीबीएस डॉक्टर की सैलरी – MBBS Doctor Salary in Hindi

एमबीबीएस डॉक्टर की सैलरी उनके अनुभव, स्थान, कार्य क्षेत्र, और नियोक्ता के प्रकार जैसे कई कारकों पर निर्भर करती है।

सरकारी मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस डॉक्टरों की सैलरी:

  • इंटर्नशिप: एमबीबीएस इंटर्न को प्रति माह ₹15,000 से ₹25,000 तक की सैलरी मिल सकती है।
  • रेजिडेंट डॉक्टर: जूनियर रेजिडेंट डॉक्टरों को प्रति माह ₹50,000 से ₹70,000 तक की सैलरी मिल सकती है।
  • सीनियर रेजिडेंट डॉक्टर: सीनियर रेजिडेंट डॉक्टरों को प्रति माह ₹65,000 से ₹85,000 तक की सैलरी मिल सकती है।
  • असिस्टेंट प्रोफेसर: असिस्टेंट प्रोफेसरों को प्रति माह ₹80,000 से ₹1,00,000 तक की सैलरी मिल सकती है।
  • एसोसिएट प्रोफेसर: एसोसिएट प्रोफेसरों को प्रति माह ₹1,00,000 से ₹1,30,000 तक की सैलरी मिल सकती है।
  • प्रोफेसर: प्रोफेसरों को प्रति माह ₹1,30,000 से ₹2,00,000 या उससे अधिक की सैलरी मिल सकती है।

प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस डॉक्टरों की सैलरी:

  • प्राइवेट हॉस्पिटल: प्राइवेट हॉस्पिटल में एमबीबीएस डॉक्टरों को उनकी योग्यता, अनुभव और विशेषज्ञता के आधार पर प्रति माह ₹50,000 से ₹2,00,000 या उससे अधिक तक की सैलरी मिल सकती है।
  • क्लिनिक: प्राइवेट क्लिनिक में एमबीबीएस डॉक्टर अपनी सुविधानुसार काम करते हैं और अपनी फीस खुद तय करते हैं।
  • NGOs: एनजीओ में काम करने वाले एमबीबीएस डॉक्टरों को प्रति माह ₹30,000 से ₹60,000 तक की सैलरी मिल सकती है।

एमबीबीएस प्राइवेट कॉलेज फीस 2024 | MBBS Private College Fees in hindi

सबसे सस्ता मेडिकल कॉलेज – cheapest medical college in india in Hindi

भारत में मेडिकल शिक्षा महंगी हो सकती है, खासकर प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों में। लेकिन, सरकारी मेडिकल कॉलेजों में एडमिशन मिलने पर आप कम खर्च में बेहतरीन शिक्षा प्राप्त कर सकते हैं।

यहां कुछ सबसे सस्ते सरकारी मेडिकल कॉलेजों की सूची दी गई है:

1. राजेंद्र प्रसाद मेडिकल कॉलेज, रांची, झारखंड:

  • यह एक प्रतिष्ठित सरकारी मेडिकल कॉलेज है जो 1960 में स्थापित किया गया था।
  • एमबीबीएस कोर्स की फीस लगभग ₹5,000 प्रति वर्ष है।

2. मौलाना आज़ाद मेडिकल कॉलेज, नई दिल्ली:

  • यह दिल्ली का एक प्रसिद्ध सरकारी मेडिकल कॉलेज है।
  • एमबीबीएस कोर्स की फीस लगभग ₹8,000 प्रति वर्ष है।

3. गांधी मेडिकल कॉलेज, ग्वालियर, मध्य प्रदेश:

  • यह मध्य प्रदेश का एक पुराना और प्रतिष्ठित सरकारी मेडिकल कॉलेज है।
  • एमबीबीएस कोर्स की फीस लगभग ₹7,000 प्रति वर्ष है।

4. केरल मेडिकल कॉलेज, त्रिवेंद्रम, केरल:

  • यह केरल का एक उत्कृष्ट सरकारी मेडिकल कॉलेज है।
  • एमबीबीएस कोर्स की फीस लगभग ₹9,000 प्रति वर्ष है।

5. राजकीय मेडिकल कॉलेज, गुवाहाटी, असम:

  • यह असम का एक प्रमुख सरकारी मेडिकल कॉलेज है।
  • एमबीबीएस कोर्स की फीस लगभग ₹6,000 प्रति वर्ष है।

भारत में एमबीबीएस कॉलेजों 2024 | best mbbs colleges in india in hindi

एमबीबीएस के लिए सबसे अच्छा देश – Best country for mbbs in Hindi

विदेश में एमबीबीएस करने के लिए कई बेहतरीन देश हैं, जिनमें से प्रत्येक के अपने फायदे और नुकसान हैं। आपके लिए सबसे अच्छा देश आपकी व्यक्तिगत आवश्यकताओं, प्राथमिकताओं और बजट पर निर्भर करता है।

यहाँ कुछ लोकप्रिय विकल्प दिए गए हैं:

  • यूक्रेन: यूक्रेन भारतीय छात्रों के बीच एमबीबीएस के लिए एक लोकप्रिय गंतव्य है। यहां विश्वविद्यालयों में कम शुल्क, अंग्रेजी भाषा में पाठ्यक्रम और रहने की कम लागत होती है।
  • रूस: रूस में भी कई प्रतिष्ठित मेडिकल स्कूल हैं जो अंग्रेजी भाषा में एमबीबीएस कार्यक्रम प्रदान करते हैं।
  • चीन: चीन में एमबीबीएस शिक्षा उच्च गुणवत्ता वाली है और कई विश्वविद्यालय अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त हैं।
  • फिलीपींस: फिलीपींस में अंग्रेजी भाषा में कई एमबीबीएस कार्यक्रम उपलब्ध हैं और यूएसएमएलई परीक्षा के लिए भी तैयारी कर सकते हैं।
  • किर्गिस्तान: किर्गिस्तान में एमबीबीएस की शिक्षा अपेक्षाकृत सस्ती है और रहने की लागत भी कम है।

सरकारी मेडिकल कॉलेज की फीस 2024 | mbbs karne me kitna paisa lagta hai in hindi

निष्कर्ष (Conclusion)

सरकारी मेडिकल कॉलेज में एडमिशन प्राप्त करना लाखों छात्रों का सपना होता है। यह सपना आसान नहीं होता, क्योंकि प्रवेश परीक्षा अत्यधिक प्रतिस्पर्धी होती है और सीटें सीमित होती हैं।

लेकिन यदि आप कड़ी मेहनत, लगन और समर्पण के साथ तैयारी करते हैं, तो आप निश्चित रूप से सफलता प्राप्त कर सकते हैं।

इसके अतिरिक्त, आप निम्नलिखित संसाधनों का भी उपयोग कर सकते हैं:

सरकारी मेडिकल कॉलेज में एडमिशन के बारे में अक्सर पूँछे जाने वाले सवाल (FAQ)

Q. भारत में कुल कितने सरकारी मेडिकल कॉलेज है?

Ans.भारत में सरकारी मेडिकल कॉलेजों की सटीक संख्या समय के साथ बदलती रहती है, क्योंकि नए कॉलेज खुलते हैं और कुछ बंद हो सकते हैं। मेरे पास अप्रैल 2024 तक की जानकारी है, उस समय तक भारत में लगभग 350-400 सरकारी मेडिकल कॉलेज थे।
हालांकि, यह संख्या निरंतर बढ़ रही है क्योंकि भारत सरकार देश में चिकित्सा शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए प्रयासरत है। आप सटीक और अद्यतन जानकारी के लिए भारतीय चिकित्सा परिषद (MCI) या स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय की आधिकारिक वेबसाइट देख सकते हैं।

Q. सरकारी मेडिकल कॉलेज की फीस कितनी है?

Ans.वार्षिक शिक्षण शुल्क: लगभग 10,000 से 1,00,000 रुपये तक (राज्य और संस्थान के अनुसार भिन्न)
हॉस्टल शुल्क: प्रति वर्ष लगभग 15,000 से 50,000 रुपये तक
मेस शुल्क: प्रति माह लगभग 2,000 से 5,000 रुपये तक
अन्य शुल्क (पुस्तकालय, प्रयोगशाला, आदि): प्रति वर्ष लगभग 5,000 से 20,000 रुपये तक

Q.एमबीबीएस करने के लिए क्या करना पड़ता है?

Ans.12वीं कक्षा में विज्ञान (भौतिकी, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान) के साथ उत्तीर्ण
न्यूनतम 50% अंक (SC/ST/OBC के लिए 40%)

एसएससी सीजीएल भर्ती 2024 के 17000 पदों की भर्ती ऑनलाइन आवेदन फॉर्म | SSC CGL Recruitment 2024 Apply Online in Hindi

Leave a Comment